1 Marla Kitna Hota Hai – 1 मारला कितना होता है

आपसे कई साल पहले राजा महाराजाओं ने जमीन नापने के लिए बीघा, बिस्वा, मारला, जैसे कुछ शब्दों का इस्तेमाल किया। भारत की संस्कृति की जानकारी इसी से मिलती है कि आज तक पूरे भारत में जमीन नापने के लिए इन्हीं शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है। उत्तर भारत में प्रचलित रूप से मारला शब्द का इस्तेमाल जमीन नापने के लिए किया जाता है। अगर आप 1 Marla Kitna Hota Hai पता कर रहे है, तो हम आपको बता दें कि 9 सरसहि का 1 मारला होता हैं।

यह सारे शब्द बहुत ज्यादा पुराने है, अधिक प्रचलित नहीं है मगर उत्तर भारत के कुछ क्षेत्र में आज भी मारला, सरसहि, और करम जैसे शब्दों का इस्तेमाल करके जमीन का छेत्र नापा जाता है। आज इस लेख में हम आपको 1 मारला कितना होता है और कैसे इसका इस्तेमाल कर के जमीन नापते है इसके बारे में विस्तार से बताएंगे। 

मारला क्या होता है

मारला एक बहुत ही आवश्यक शब्द है, जिसका इस्तेमाल कर के उत्तर भारत के क्षेत्र में खेत और अन्य जमीन को नापने का कार्य किया जाता है। साधारण तौर पर इतना समझ लीजिए कि सरसाही जमीन को नापने की एक छोटी इकाई होती है, मगर इससे छोटी इकाई करम होती है और करम के वर्ग को ही सरसाही कहते है। जब 9 सरसाही आपस में जुटते है तो हम उसे मरला कहते हैं।

साधारण तौर पर मरला जमीन को इंचो में नाप कर उसके संयुक्त रूप को कहते है। जब कुछ इंच आपस में मिलते है, तो जमीन के उस भाग को करम कहा जाता है उसके बाद उसके वर्ग रूप हो सरसही कहा जाता है और जब 9 सरसही आपस में जोड़ते है, तो उसे मरला कहा जाता है छोटे मोटे जमीन को नापने के लिए इन इकाइयों को बहुत पहले तैयार किया गया था।

1 मारला कितना होता है

जैसा की हमने आपको बताया जमीन को इंच में नापते हुए जब आगे बढ़ते है, तो करम, सरसही, और मरला जैसे इकाइयों का इस्तेमाल करके छोटे-मोटे जमीनों को नापा जाता हैं।

1 करम = 57.6 इंच होता हैं।

1 सरसही = 1 वर्ग करम होता हैं।

             = 57.6 X 57.6 इंच वर्ग करम

             = 3306 इंच वर्ग होता हैं।

इस तरह 9 सरसही का 1 मरला होता है। जिसमें 3306 X 9 = 29754 वर्ग इंच होता है। सरल शब्दों में लगभग 29000 वर्ग इंच जमीन को मरला कहते हैं।

कितनी करम में कितना इंच होता है

हम आपको बता देना चाहते है कि करम में इंच की मात्रा जगह के अनुसार बदलती रहती है। उत्तर भारत के कुछ क्षेत्र में 1 करम का मतलब 57.6 इंच होता है, तो किसी छेत्र में 66 इंच होता है। इस तरह अगर आपको अपने इलाके में करम मरला जैसे इकाइयों का इस्तेमाल करना है तो आपको पता होना चाहिए कि आपके इलाके में करम में कितना इंच होता हैं।

वक्त के अनुसार करम में इंच की मात्रा बदलती रहती है। इस वजह से करम और जमीन मापने का तरीका भारत में हर जगह इस्तेमाल नहीं किया जाता। आपको अगर अपने इलाके के करम में जमीन की मात्रा के बारे में पता है तो उसे वर्ग करके सरसाहि में बदल सकते है और उसके बाद 9 सरसही का एक मरला निकाल सकते हैं।

मरला में कितना कनाल होता है

आपको बता दें 1 मरल में कनाल भी होता है। बाकी इकाइयों की तरह कनाल का इस्तेमाल भी मुगल साम्राज्य से आज तक उत्तर भारत के कुछ छेत्र में किया जा रहा है। कनाल जमीन नापने की बड़ी इकाई होती है। 20 मरला मिलके 1 कनाल बनते हैं।

अगर आपके पास 20 मरला है तो उसे एक कनाल कहा जाएगा इसी तरह अगर आपके पास 2 कनाल जमीन है तो इसका मतलब कि 40 मरला जमीन है, जिसे हम करम और इंच में भी बदल सकते हैं।

इसके अलावा 1 मरला में 0.05 कनाल होता है। इसी तरह मरला के जमीन को कनाल में भी नाप सकते हैं। 

मारला के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

निचे हमने कुछ ऐसे सवालों के जवाब दिए गए है जो की अक्सर लोग मारला के बारे में पूछते रहते हैं।

Q. 1 मरला कितना होता है?

मरला उत्तर भारत में जमीन नापने की एक प्रक्रिया है जिसके अनुसार एक मरला का मतलब 9 सरसही होता है।

Q. 2 कनाल में कितना मरला होता है?

1 कनाल में 20 मरला होता है और उसी अनुसार दो कनाल का मतलब 40 मरला होता है।

Q. 1 मरला में कितना स्क्वायर फिट होता है?

एक मरला में लगभग 272 स्क्वायर फिट होता है।

निष्कर्ष

अगर आपको 1 Marla Kitna Hota Hai लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना और इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply