ब्लैक लिव्स मत्तेर क्या है – Black Lives Matter In Hindi

अगर आप क्रिकेट के शौकीन है तो टी-20 वर्ल्ड कप में अपने सभी क्रिकेटरों को एक घुटने पर बैठे देखा होगा आप आए दिन टीवी में या अलग-अलग सोशल मीडिया साइट्स पर आपने यह न्यूज़ देखा होगा कि किस तरह से लोग ब्लैक लाइट्स प्रोटेस्ट कर रहे है। अगर आप जानना चाहते है कि Black Lives Matter In Hindi तो आप बिल्कुल सही जगह पर है इस लेख में हम आपको विस्तार पूर्वक जानकारी देने जा रहे है और अलग अलग तरीके से आपको इसके लाभ और हानि के बारे में बताने का प्रयास किया जाएगा। 

काले लोगों को लेकर एक आंदोलन बड़ी तेजी से पूरी दुनिया में विभिन्न देशों में फैलता जा रहा है कई मशहूर शहर में इस आंदोलन ने दंगा फसाद का रूप ले लिया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह आंदोलन पुलिस के खिलाफ शुरू किया गया था 2012 में लेकिन हाल ही में पुलिस की बर्बरता को देखते हुए इस आंदोलन को और भी सक्रिय करना पड़ा इस आंदोलन का मुख्य उद्देश्य काले लोगों को उनका हक दिलाना है Black lives matter किस प्रकार इस आंदोलन से जुड़ा हुआ है जानने के लिए इसलिए के साथ अंत तक बने रहे।

Black Lives Matter In Hindi

आपको बता दें कि ब्लैक लाइट्स मैटर एक संस्था है जिसकी शुरुआत 2012 में की गई थी जिसका मुख्य उद्देश्य काले लोगों को समाज में बराबरी का हक देना है। इस संस्था की शुरुआत अमेरिका में हुई थी ताकि वहां के सभी काले लोगों को उनका अधिकार दिलाया जा सके इस संस्था ने विभिन्न प्रकार के आंदोलन करवाएं और आज यह संस्था black lives matter के नाम से पूरी दुनिया में प्रचलित हो गई हैं।

आज इस संस्था का नाम है एक प्रसिद्ध नारे के रूप में गूंज रहा है। 2012 में किसी काले रंग के व्यक्ति को अमेरिकी पुलिस द्वारा मार दिया गया था जबकी उसका अपराध बहुत छोटा सा था। पुलिस की इस बर्बरता को देखते हुए लोगों ने काले लोग के प्रति आंदोलन शुरू किया इस आंदोलन ने एक संस्था को जन्म दिया जिसका नाम Black lives matter है। उस संस्था ने आज पुलिस और अन्य सफेद लोगों के द्वारा किए जाने वाले भेदभाव को कम करने के लिए विश्व अस्तर पर Black lives matter नाम से काफी प्रचलिता मिला हैं। 

ब्लैक लिव्स मत्तेर का केस क्या है

आपने अभी हाल ही में न्यूज़ में बहुत जगहों पर ब्लैक लाइफ मैटर का आंदोलन देखा होगा आंदोलन को मुख्य तौर पर 2012 में शुरू किया गया था। मगर यह आंदोलन अच्छा रूप ना लिख सका, अभी हाल ही में जॉर्ज फ्लोएड नाम के एक अफ्रीकी अमेरिकन व्यक्ति को पुलिस ने बीच रोड पर पीट पीट कर मार दिया। उस व्यक्ति का जुर्म पता करने के सिलसिले में लोगों को यह पता चला है कि किसी दुकान में उसने नकली $20 का नोट दिया था जिस वजह से उस दुकानदार ने एक कंप्लेन करवाई थी और पुलिस ने उसे रोड पर पटक पटक कर मार दिया। 

अमेरिका के सभी लोग पुलिस की बर्बरता को देखते हुए काफी आगबबूला हुए और इस ब्लैक लाइफ मैटर के आंदोलन को दोबारा उठाया गया और पुरे सोशल मीडिया के जरिए इसे विश्व भर में प्रचलित किया गया देखते ही देखते यह आंदोलन ना केवल अमेरिका बल्कि इंग्लैंड और फ्रांस जैसे देशों में भी एक अच्छे रूप में नज़र आया। इस आंदोलन की वजह से न्यूयॉर्क में दंगा फसाद भी शुरू कर दिया गया हैं। 

सरकार को इस आंदोलन से काफी नुकसान हो रहा है और सरकार से इस आंदोलन को खत्म करने के लिए अलग-अलग प्रकार के तर्क दे रही है। ब्लैक लाइफ मैटर के विरोध में सरकार तर्क दे रही है कि अगर आप रिपोर्ट को देखें तो पता चलेगा कि तकरीबन 49% सफेद लोगों को मारा जाता है और 24% काले लोगों को मारा जाता है जुर्म करने के लिए। सरकार के इस तर्क का विरोध करते हुए ब्लैक लाइफ मैटर के समर्थकों का कहना है कि अगर आप अमेरिका में जनसंख्या के अस्तर से देखें तो यह गलत है क्योंकि काले लोगों की जनसंख्या केवल 17% हैं।

इन सभी तर्कों के साथ इस आंदोलन ने एक विकराल रूप ले लिया है और पूरी दुनिया से लोग काले लोगों के समर्थन के लिए अपनी आवाज उठा रहे है अमेरिकी सरकार को भी इसके खिलाफ कुछ करना चाहिए। 

अमेरिका में काले लोगों के साथ क्यों होती है इतनी बर्बरता

अगर ब्लैक लाइफ मैटर और इससे जुड़े विभिन्न प्रकार के केसों को देखने के बाद आपके मन में यह विचार उठता है कि आखिर क्यों अमेरिका में काली लोगों के साथ इतनी बर्बरता की जाती है। तो आपको बता दें कि अमेरिका में काले लोगों को परेशान करने के पीछे एक अजीब सी मानसिकता है अगर हम अमेरिका के इतिहास को ध्यान से देखें तो आपको पता चलेगा कि 1960 तक अमेरिका में लोगों को नौकर की तरह रखा जाता था अर्थात उन्हें शैलेश समझा जाता था उनके पास किसी भी प्रकार की संपत्ति नहीं होती थी ना ही उन्हें वोट देने और पढ़ने की इजाजत दी गई थी कहीं जद्दोजहद के बाद 1960 में उन्हें इन सभी चीजों का अधिकार दिया गया। 

यह इतिहास अभी से महज 50 से 60 साल पुराना है तो वहां के लोगों के मन में अभी भी पहले लोगों के प्रति अच्छी मानसिकता नहीं है जिस वजह से ब्लैक लाइफ मैटर इतना सक्रिय हुआ है। हालांकि विभिन्न प्रकार के लोगों के द्वारा विभिन्न प्रकार का राय दिया जा रहा है अगर आपको भी ब्लॉक लाइफ मैटर के समर्थन में कुछ कहना है तो आप नीचे कमेंट कर सकते हैं। 

ब्लैक लाइफ मैटर क्रिकेट क्या है

आपने ब्लैक लाइफ मैटर की बात क्रिकेट में सुनी होगी। अगर आप क्रिकेट के शौकीन है तो टी-20 वर्ल्ड कप के दौरान भारतीय खिलाड़ियों को एक घुटने पर बैठे देखकर आश्चर्य जरूर हुआ होगा। आपको बता दें कि एक घुटने पर बैठना समर्थन की निशानी है यह तरीका ब्लैक लोगों का मानना चाहता है एक घुटने पर बैठकर काले लोगों को समर्थन दिया गया था। 

भारत के सभी खिलाड़ी और विभिन्न देशों के खिलाड़ी ग्राउंड पर एक घुटने पर बैठकर ब्लैक लाइफ मैटर को समर्थन देते हुए काले लोगों को उनके हक मिलना चाहिए इस बात का समर्थन दिखाया था। 

ब्लैक लिव्स मत्तेर के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

ब्लैक लाइफ मैटर क्या है? से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले लोगों के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न एवं उनके उत्तर यहां दिए गए हैं।

Q. ब्लैक लाइफ मैटर क्या हैं?

ब्लैक लाइफ मैटर एक संस्था है जो काले लोगों के खिलाफ आवाज उठाता है इस संस्था का नाम आज पूरी दुनिया में नारा बन चुका है और हर कोई इस शब्द का इस्तेमाल करके काले लोगों को उनका हक दिलाने के लिए समर्थन दे रहा हैं। 

Q. ब्लैक लाइफ मैटर क्रिकेट क्या हैं?

T20 विश्वकप के दौरान क्रिकेट के सभी खिलाड़ी एक घुटने पर बैठकर काले लोगों को उनके हक के लिए समर्थन करते हुए ब्लैक लाइफ मैटर आंदोलन का हिस्सा बने। 

Q. ब्लैक लाइफ मैटर कब शुरू हुआ?

यह आंदोलन 2012 में एक पुलिस कर्मी द्वारा काली व्यक्ति को छोटे से जुर्म के लिए पीट-पीटकर मार देने के एवज में शुरू हुआ आज यह आंदोलन पूरी दुनिया भर में विकराल रूप ले चुका है क्योंकि अमेरिकी पुलिस अपनी आदत से बाज नहीं आ रही। 

Q. अभी ब्लैक लाइफ मैटर किस व्यक्ति के कहने पर शुरू हुआ?

यह आंदोलन किसी के कहने पर नहीं शुरू हुआ बल्कि जॉर्ज फ्लोएड नाम की एक african-american व्यक्ति को जब अमेरिकी पुलिस ने मार कर हत्या कर दी तब यह आंदोलन उग्र रूप लिया। 

निष्कर्ष

अगर आपको Black Lives Matter In Hindi लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना और इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply