Body Parts Name In Hindi – मानव शरीर के अंगों के नाम जानिए हिंदी में

ईश्वर ने हर किसी को एक शरीर दिया है हमारा यह कर्तव्य बनता है कि हम अपने शरीर के बारे में संपूर्ण जानकारी रखें। खास करके छोटे बच्चों को शरीर के अंगों के बारे में पता होना चाहिए अगर आप Body Parts Name In Hindi को गूगल पर ढूंढ रहे है, तो आप सही जगह पर है आज के लेख में हम आपको इंसान के शरीर के अलग-अलग अंग के नाम के बारे में हिंदी और इंग्लिश में बताएंगे। 

हमारे शरीर में अलग-अलग अंग है और प्रत्येक अंग का अलग-अलग कार्य है हमें अपने शरीर के कार्यप्रणाली को समझना चाहिए और किस अंग का क्या जरूरत है इसे भी जाना चाहिए इसे अच्छे से समझने के लिए Body parts name in Hindi के इस लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें। 

Body Parts Name In Hindi

शरीर के अलग-अलग अंगों को हिंदी में क्या कहते है इसे जानने के लिए नीचे दी गई सूची को ध्यानपूर्वक पढ़ें उसमें अलग-अलग अंग को हिंदी और अंग्रेजी में क्या कहते है, वह बताया गया हैं।

Englishहिंदी
Eyeआंख
Eyebrowsभौं
Noseनाक 
Earकान 
Mouthमुंह 
Teethदात 
Tongueजीव 
Cheeksगाल 
Foreheadलिलार 
Hairबाल 
Neckगला 
Faceचेहरा 
Headमाथा 
Shoulderकंधा 
Handहाथ 
Wristकलाई 
Fingersउंगलीयां 
Thumbअंगूठा 
Chestछाती
Bellyपेट 
Backपीठ 
Spineरीड 
Legsपैर 
Elbowकेहूनी 
Kneeघुटना 
Chinदाढ़ी 
Skullखोपड़ी 
Navelनाभि 
Nervous systemनश 
Fistमुट्ठी
Stomachपेट 
Rumpचूतड
Salivaलार
Breastस्तन 
Nippleस्तन का अलग हिस्सा
Templeकनपटी 
Spleenतिल 
Wartमसा 
Calfपेंडुली 
Thaiजंग 
 Jawlineजबड़ा 
Heartदिल 
Intestineआत 
Uratus गर्भ 
Ankleएडी 

इंटरनल बॉडी पार्ट्स इन हिंदी

हमारे शरीर के अंग केवल बाहर दिखने वाले अंग नहीं है बल्कि हमारे शरीर के अंदर भी बहुत सारे महत्वपूर्ण अंग होते है। जिनके वजह से शरीर सही तरीके से कार्य कर पाता है उन सभी अंगों के बारे में बहुत कम लोग बात करते है, आपको शरीर के अंदर के अंगों के बारे में जानना चाहिए।

1. हृदय

दिल या हृदय हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है, यह हमारे छाती के पास मौजूद हाड पंजर या परिसंचरण प्रणाली के बीच में स्थित होता है। ह्रदय हमारे शरीर में खून भेजने का काम करता है, दिल के वजह से हमारे शरीर में मौजूद सभी अंग तक साफ खून पहुंच पाता है। मुख्य रूप से हृदय पंजर के नीचे छाती के केंद्र में फेफड़ों के बीच होता हैं।

हृदय 300 ग्राम का होता है जिसका 75% हिस्सा हमारे छाती के बाएं तरफ और 25% हिस्सा हमारे छाती के दाएं तरफ होता है। यही कारण है कि जब हम धड़कन सुनते है तो छाती के बाएं तरफ सुनने है। असल में हृदय धड़क-धड़क कर हमारे शरीर के सभी अंगों तक ऑक्सीजन वाला खून न पहुंचाता है और कार्बन डाइऑक्साइड वाला खून वापस खींचता है। इस कार्य को करने के लिए हृदय में चार अलग-अलग चेंबर बने हुए होते हैं।

एक तरफ दो चेंबर होता है और दूसरी तरफ दो चेंबर होता है दो चेंबर का काम ऑक्सीजन वाले खून को शरीर में भेजना और दो चैंबर का काम कार्बन डाई ऑक्साइड वाले खून को खींचने का होता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि जब मां के पेट में बच्चा 4 हफ्ते का होता है तब से उसका दिल काम करना शुरू कर देता है। दिल 1 मिनट में 72 बार धड़कता है एक स्वस्थ व्यक्ति का दिल साल भर में 3 करोड़ 60 लाख बार धड़कता है और औसतन यह आंकड़ा पूरे जीवन काल में 250 करोड़ से ज्यादा पहुंच जाता हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी कि 1893 में पहली बार दिल का ऑपरेशन किया गया था और 1950 में पहली बार किसी को मानव निर्मित वाल्व लगाया गया था या हम कह सकते है, कि पहली बार मानव निर्मित दिल दिया गया था।

2. किडनी

किडनी हमारे शरीर का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण अंग है हम जो भी खाते है उसमे से पोषक तत्वों को निकालने के बाद जो बच जाता है उसे बाहर निकालने का काम करता है। सरल शब्दों में किडनी का मुख्य काम शरीर से अपशीट और तरल पदार्थ को यूरिन के माध्यम से बाहर निकालना होता है। किडनी अगर स्वस्थ रहती है तो जो भी हम खाते है, उसका सही रूप में शरीर के सभी अंगों को ताकत पहुंचता हैं।

अगर किडनी में किसी भी प्रकार की समस्या होती है तो हमारा शरीर सूखने लगता है हमारे त्वचा में सूजन और खुजली होने लगती है, कमजोरी और थकान महसूस होती है भूख कम लगने लगता है, और बार-बार पेशाब जाना पड़ता हैं।

किडनी खराब होना या Urinary Tract Infection होना आजकल एक साधारण बीमारी बन चुकी है। मगर इसका इलाज हो जाता है अगर किसी व्यक्ति का एक किडनी खराब हो जाए तो वह दूसरे किडनी पर भी जिंदा रह सकता है एक स्वस्थ इंसान के शरीर में दो किडनी होती है। किडनी में होने वाले किसी भी बीमारी का इन्फेक्शन से बचने के लिए आदमी को खूब सारा पानी पीना चाहिए।

3. लिवर 

लीवर को यकृत या जिगर भी कहा जाता है। शरीर के सबसे महत्वपूर्ण आंतरिक अंगों में से एक भी है। हमारे शरीर में मौजूद यह छोटा सा स्पंज जैसा अंग हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में बहुत अहम भूमिका निभाता है अगर लीवर पर किसी भी प्रकार की दिक्कत होती है तो पूरे शारीर के स्वास्थ्य पर असर दिखता हैं।

लीवर एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है इस वजह से है क्योंकि हमारे शरीर में खाना को पचाने के लिए पीत बनाने का काम करता है, इसके अलावा शरीर में मांस पेशी को बनाने के लिए प्रोटीन बनाने का काम लिवर करता है, हमारे शरीर में ब्लड शुगर को मेंटेन करने और खानपान या वातावरण की वजह से शरीर में आने वाले किसी भी प्रकार के वायरस या बैक्टीरिया से लड़ने में लिवर काम करता हैं।

आज पूरे विश्व में लिवर की बीमारी एक साधारण समस्या बन चुकी है डॉक्टर बताते है कि लीवर की समस्या hepatitis B या हेपेटाइटिस सी की वजह से होता है। इसके अलावा आजकल व्यक्ति का रहन-सहन और खान-पान बहुत खराब हो गया है जिससे लीवर को काफी खतरा होता हैं।

डॉक्टर यह भी बताते है कि बहुत सारे लोगों को लगता है कि केवल दारु पीने से लीवर की बीमारी होती है मगर ऐसा नहीं है आजकल फैटी लीवर की समस्या बहुत आम हो चुकी है लोग ज्यादातर घर में रहते है तला हुआ खाना खाते है और किसी भी तरह से शारीरिक मेहनत नहीं करते जिस वजह से लीवर में चर्बी आ जाती है और अलग-अलग तरह की समस्या शरीर में दिखने लगती हैं।

अपने लिवर को स्वस्थ रखने के लिए डॉक्टर बताते है कि रोज आपको 3 किलोमीटर पैदल चलना चाहिए या फिर रोज कम से कम 1 किलोमीटर दौड़ना चाहिए इसके अलावा डॉ बताते है, कि मसाला वाला खाना नहीं खाना चाहिए जितना कम हो सके उतना कम मसाला का सेवन करना चाहिए।

4. अंत

किसी भी व्यक्ति के शरीर में दो आते होती है, पहला बड़ी आत और दूसरा छोटी आत। इन दोनों आंतो का मुख्य काम शरीर में मौजूद खाना को पचाने का होता हैं।

बड़ी आत तरल पदार्थ में मौजूद सभी पोषक तत्वों को शरीर में भेजती है और जो बचता है उसे यूरिया के रूप में बाहर निकाल देती है। इसके अलावा छोटी आत हम जो भी खाते है उस खाना को पचा करो उसमें से सभी पोषक तत्वों को शरीर में भेजने का काम करती है। अगर हम अच्छा खाना नहीं खाएंगे तो उसे पचने में दिक्कत होगी और इससे अलग अलग तरह की परेशानियां होती हैं।

डॉक्टर बताते है कि अपने आतों को स्वस्थ रखने के लिए हमें रोजाना एक्सरसाइज करना चाहिए। और ऐसा खाना खाना चाहिए जिसमें मसाला कम हो जितना हम मैदा मसाला या बाहर का खाना खाएंगे उतना ज्यादा यह सारी चीजें हमारी आंतों में फसेगी और हमारी अंत कमजोर होती जाएगी जिससे आगे चलकर विभिन्न प्रकार की पेट की बीमारियां उत्पन्न होती हैं।

5. फेफड़ा

इस दुनिया में सबसे ज्यादा अगर हम किसी शरीर के अंगों को दिक्कत पहुंचाते है तो वह फेफड़ा है क्योंकि पूरी दुनिया में बहुत बड़ी जनसंख्या ऐसी है जो सिगरेट और दारु का सेवन करती है। मुख्य रूप से जवान सिगरेट पीते है तो हमारे श्वास नली से होता हुआ उसका दुआ हमारे फेफड़े में जाता है जिसे हमारा फेफड़ा सूखता है और पूरी तरह से जल जाता हैं।

हमारे फेफड़े में बहुत सारे छोटे छोटे ब्रोक आईल्स होते है जो हवा को साफ करने का काम करते है मगर जब हम सिगरेट या प्रदूषण का धुआं लेते है तो ब्रो काइल्स की शक्ति खत्म हो जाती है और फेफड़े में केवल गंदगी भर जाती है जिससे सांस की बीमारी होती है धीरे-धीरे आदमी मर जाता हैं।

बताते है कि रोज योगा और प्राणायाम करने से फेफड़ा स्वास्थ्य रहता है इसके अलावा हर आदमी को प्रदूषण और सिगरेट जैसी चीजों से दूर रहना चाहिए यह सभी चीजें धीरे-धीरे हमारे उम्र को कम कर देती हैं।

बॉडी पार्ट्स इन हिंदी के बारे में पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न

आज हमने अपने इस लेख में बॉडी पार्ट्स से संबंधित आप लोगों द्वारा पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर दिए हुए हैं। 

Q. इंसान का मस्तिष्क कितना वजन का होता है?

एक साधारण मनुष्य के मस्तिष्क का वजन 4.4 पाउंड का होता है जबकि एक वयस्क या बूढ़े मनुष्य के मस्तिष्क का वजन 3 पाउंड होता हैं।

Q. मानव के शरीर की सबसे छोटी ग्रंथि कौन सी है?

मानव के शरीर की सबसे छोटी ग्रंथि पीनियल ग्रंथि है जो मस्तिष्क के मध्य में होती हैं।

Q. मानव के शरीर में रक्तचाप किस ग्रंथि से नियंत्रित होता है?

अधिवृक्क ग्रंथि से मानव के शरीर में रक्त चाप नियंत्रित होता हैं।

Q. मानव शरीर का सबसे आवश्यक अंग कौन सा है?

वैसे तो मानव शरीर का सारा अंग बहुत आवश्यक होता है मगर मस्तिक से प्रत्येक अंग को चलने का निर्देश देता है इस वजह से मस्तिष्क से सबसे आवश्यक अंग होता हैं।

Q. मानव शरीर में दिल का क्या काम होता है?

मानव शरीर में दिल का काम प्रत्येक अंग तक खून को पहुंचाना होता हैं। 

निष्कर्ष

अगर आपको Body Parts Name In Hindi लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना।इसके अलावा अगर आपको इस लेख से सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप निचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply