BPT Course Details in Hindi – एडमिशन, योग्यता, फीस, सैलरी के बारे में जानिए

अगर आप 12वीं के बाद मेडिकल फील्ड में निर्देशन करना चाहते हैं तो बीपीटी एक बेहतरीन कोर्स हो सकता है आज के समय में बहुत सारे मेडिकल कोर्स आ चुके हैं लोग ज्यादातर एमबीबीएस की डिग्री करके डॉक्टर बनना चाहते हैं मगर यह बहुत ही कठिन है आपको सोचना चाहिए कि मेडिकल विभाग में और भी अलग-अलग तरह के स्टाफ और पोजीशन की जरूरत पड़ती है जिसके बारे में जानकारी लेकर आप उन सारे पद पर जा सकते है और अपने लिए एक सुनहरे भविष्य की कामना कर सकते है हम आपको मेडिकल कोर्स के एक अलग छेत्र के बारे में जानकारी देंगे आज के इस लेख में BPT Course Details in Hindi में पढ़ते हुए आप जानेंगे कि यह क्या है, इसमें आप एडमिशन कैसे ले सकते है और किस तरह आने वाले समय में यह एक सुनहरा अवसर दे सकता हैं।  

मेडिकल विभाग में अलग-अलग तरह के कोर्स आ चुके हैं उनमें से कुछ कोर्स बड़ी आसानी से किए जा सकते हैं और उनमें से एक BPT Course है जिसे बारहवीं कक्षा के बाद एक स्नातक डिग्री कोर्स के तौर पर किया जाता है आज के लेख में हम बीपीटी कोर्स डिटेल्स इन हिंदी के बारे में चर्चा करेंगे ताकि आप इसको से से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी कुछ सरल शब्दों में समझ सके और अपना एक भविष्य बना सकें। 

BPT Course Details in Hindi

जैसा कि आपको पता होगा हमारा शरीर बहुत ही जटिल है जिसमें काफी अलग अलग तरह की परेशानियां होती है हमारे शरीर के मूवमेंट में जितनी भी परेशानी आती है वह सब बीपीटी कोर्स करने वाले डॉक्टर के द्वारा हल किए जाते है। इस कोर्स में आपको शरीर के मूवमेंट के बारे में बताया जाता है जैसे पैर और हाथ के जोड़ों के बारे में बताया जाता है और पैरालाइसिस या घुटनों के दर्द जैसी समस्याओं के निराकरण पर जानकारी दी जाती हैं। 

यह एक स्नातक डिग्री कोर्स है जो 4 साल 6 महीने का होता है, इस कोर्स में आपको शरीर में होने वाले मूवमेंट की बहुत अच्छे से जानकारी दी जाती है जिसके बाद paralysis, जोड़ों के दर्द, आदि जैसी समस्या से जूझ रहे लोगों का इलाज आप करते हैं।

BPT का फुल फॉर्म क्या होता है

BPT का फुल फॉर्म Bachelor of Physiotherapy होता है। 

Physiotherapy का मतलब होता है बिना ऑपरेशन के मालिश दवा और नस के साथ छेड़छाड़ करके आप के दर्द को ठीक करना। इस कोर्स को करने के बाद आप शरीर के जोड़ों को काफी अच्छी तरीके से समझने लगेंगे और उनकी किसी भी समस्या को दवाई से या मालिश के माध्यम से तुरंत ठीक कर देंगे। जब आपके जोड़ों में किसी भी प्रकार की समस्या होती है तो कोई भी अच्छा डॉक्टर तुरंत आपको फिजियोथेरेपिस्ट से संपर्क करने को कहता है और उनके सलाह के अनुसार कार्य करने को कहता हैं। 

BPT में एडमिशन कैसे लें

जैसा कि हमने आपको बताया यह एक प्रचलित मेडिकल कोर्स है जो स्नातक डिग्री कोर्स के अंतर्गत आता है आप 12वीं कक्षा पास करने के बाद ही इस कोर्स में दाखिला ले सकते है। अगर आप इस कोर्स में एडमिशन लेना चाहते है तो सबसे पहले आपको अच्छे अंक से 12वीं कक्षा की परीक्षा को पास करना होगा जिसके बाद सरकारी या प्राइवेट कॉलेज में इस कोर्स के लिए आवेदन करना होगा।

इस कोर्स को करने के लिए सरकारी कॉलेज सबसे बेहतरीन हो सकता है क्योंकि वहां शिक्षा स्तर प्राइवेट कॉलेज के मुकाबले ज्यादा अच्छा है साथ ही सरकारी कॉलेज से करने के बाद आपको ज्यादा बेहतर नौकरी के अवसर मिलेंगे मगर किसी भी सरकारी कॉलेज में इस कोर्स के लिए एडमिशन लेने से पहले आपको उस कॉलेज या यूनिवर्सिटी के एंट्रेंस एग्जाम को पास करना होगा। जिसके बाद 4 साल 6 महीने तक के लिए आप इस कॉलेज में एडमिशन ले सकते है और अपनी पढ़ाई पूरी करके किसी भी हॉस्पिटल में नौकरी ले सकते हैं।

BPT कोर्स कितने साल में होता है

जैसा कि हमने आपको बताया यह एक स्नातक डिग्री कोर्स है बाकी स्नातक के कोर्स के मुकाबले इसमें थोड़ा ज्यादा वक्त लगता है 12वीं कक्षा पास करने के बाद कुल 4 साल 6 महीने तक यह कोर्स चलता है जिसके बाद आप इस कोर्स को खत्म कर पाएंगे और किसी भी क्षेत्र में नई नौकरी पाएंगे।

वैसे तो यह कोर्स 4 साल का होता है 4 साल तक आपको फिजियोथैरेपी की पढ़ाई करवाई जाती है जिसके बाद 6 महीने का इंटर्नशिप होता है इस इंटर्नशिप में प्रत्येक बच्चे को प्रेक्टिकल जानकारी देते हुए चिकित्सा व्यायाम और चिकित्सा मालिश के साथ-साथ कुछ इलेक्ट्रॉनिक मशीन के इस्तेमाल से किस तरह लोगों के जोड़ के दर्द को ठीक किया जाता है इसके बारे में जानकारी दी जाती है। 6 महीने के इंटर्नशिप के बाद आपके समक्ष दुनिया भर के हॉस्पिटल के रास्ते खुलते हैं आप कहीं भी डॉक्टर के रूप में काम कर सकते हैं और खुद का क्लीनिक भी खुल सकते हैं। 

BPT कोर्स के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

अलग-अलग तरह के कोर्स को करने के लिए अलग-अलग तरह के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया की आवश्यकता पड़ती है वैसे तो भारत में किसी भी कोर्स को करने के लिए कोई खास एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया नहीं बनाई गई है मगर बीपीटी एक मेडिकल फील्ड का कोर्स है जिसे करने से पहले आपका एलिजिबल होना काफी आवश्यक है वरना आप सही तरीके से इलाज को सीख नहीं पाएंगे। नीचे हमने बताया है कि इस कोर्स को करने के लिए क्वालीफिकेशन और उम्र सीमा क्या रखी गई हैं। 

BPT कोर्स के लिए योग्यता

अगर आप बीपीटी कोर्स करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले 12वीं कक्षा पास करनी होगी।

12वीं कक्षा पास करते वक्त बोर्ड की परीक्षा में आपका न्यूनतम मार्क्स कम से कम 50% होना चाहिए।

बारहवीं कक्षा के केवल वह छात्र या छात्रा जिन्होंने विज्ञान स्ट्रीम से पढ़ाई की है और भौतिक रसायन और जीव विज्ञान को मुख्य विषय रखा है वही आवेदन कर सकते हैं।

BPT के लिए उम्र सीमा

वैसे तो इस कोर्स के लिए उम्र सीमा अलग-अलग कॉलेज और यूनिवर्सिटी में रखी गई है मतलब कुछ यूनिवर्सिटी उम्र सीमा रखती है कुछ यूनिवर्सिटी उम्र सीमा नहीं रखती है तो अगर आप बीपीटी की परीक्षा के लिए किसी भी कॉलेज गया यूनिवर्सिटी में आवेदन करते हैं तो उस वक्त यह जरूर देख लें कि वहां बीपीटी के कोर्स के लिए उम्र सीमा क्या है। हालांकि जिस कॉलेज में बीपीटी की उम्र सीमा रखी जाती है उस की न्यूनतम उम्र सीमा 17 वर्ष और अधिकतम उम्र सीमा 25 वर्ष होती हैं। 

BPT कोर्स के लिए इंट्रेंस एग्जाम

बीपीटी कोर्स में दाखिला लेने के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम पास करने की आवश्यकता है। हालांकि आपको यह जानना चाहिए बीपीटी कोर्स के लिए कोई सार्वजनिक एंट्रेंस एग्जाम नहीं होता आप जिस यूनिवर्सिटी या कॉलेज में दाखिला लेना चाहते है उस कॉलेज या यूनिवर्सिटी के द्वारा एंट्रेंस एग्जाम आयोजित करवाया जाता हैं। 

अगर आप किसी सरकारी कॉलेज में दाखिला लेना चाहते हैं तो उसके लिए आपको उस यूनिवर्सिटी का कॉलेज के द्वारा आयोजित एंट्रेंस एग्जाम को पास करना होगा जिसमें लाए अंक के आधार पर आपको उस कॉलेज में एडमिशन दिया जाएगा। मगर ज्यादातर प्राइवेट कॉलेज में एंट्रेंस एग्जाम नहीं लिया जाता है वहां दाखिला लेने के लिए आपका 12वीं का मार्क्स देखा जाता है जिसके आधार पर आपको एडमिशन दे दिया जाता हैं। 

BPT Course करने के लिए सिलेबस

जैसा कि हमने आपको बताया बीपीटी 4 साल का कोर्स है प्रत्येक साल आपको अलग-अलग तरह के विषय के बारे में बताया जाता है आप इस कोर्स के दौरान किस तरह की पढ़ाई पड़ेंगे और किस तरह के विषय के बारे में आपको जानकारी दी जाएगी इसकी संक्षिप्त सूची नीचे प्रस्तुत की गई हैं।  

1. BPT Course 1st Year

जब आप इस कोर्स के पहले साल में जाएंगे तो आपको किस तरह के विषय के बारे में जानकारी दी जाएगी उसकी एक संक्षिप्त सूची नीचे दी गई हैं। 

  • फिजियोथैरेपि का इंट्रोडक्शन
  • फिजियोलॉजी
  • अनाटोमी
  • फूड साइंस और न्यूट्रीशन
  • साइकोलॉजी
  • फर्स्ट एड और नर्सिंग
  • बायोकेमिस्ट्री
  • कम्युनिकेशन स्किल्स 

2. BPT Course 2nd Year

इस कोर्स के पहले साल की पढ़ाई करने के बाद दूसरे साल में आपको कुछ अलग तरह के विषय के बारे में जानकारी दी जाती है जिसकी एक संक्षिप्त सूची नीचे दी गई हैं। 

  • एक्सरसाइज थेरेपी
  • फार्माकोलॉजी
  • माइक्रोबायोलॉजी
  • पैथोलॉजी
  • बायोमैकेनिक्स
  • इलेक्ट्रोथेरेपी
  • क्लीनिकल ऑब्जर्वेशन

3. BPT Course 3rd Year

इस कोर्स के बारे में 2 साल पढ़ने के बाद आपको तीसरे साल कुछ अलग विषय के बारे में बताया जाएगा ताकि आप और भी अच्छे तरीके से समझ सके तीसरे साल में जिन विषयों की जानकारी आपको दी जाएगी उसकी एक संक्षिप्त सूची नीचे प्रस्तुत की गई हैं।  

  • जनरल मेडिसिन एंड सर्जरी
  • स्पोर्ट्स साइंस एंड मेडिसिन
  • रिहैबिलिटेशन साइंस
  • फिजियोथेरेपी इन जनरल मेडिसिन एंड सर्जरी
  • बायोइंजीनियरिंग
  • ऑर्थोपेडिक्स

4. BPT Course 4th Year

इस कोर्स के आखिरी साल में आपको कुछ अन्य विषयों के बारे में जानकारी दी जाएगी जिसे पढ़ने के बाद समाप्त हो जाएगा वह कौन से विषय है उसकी एक संक्षिप्त सूची नीचे प्रस्तुत की गई हैं। 

  • न्यूरोसर्जरी
  • मेडिकल एथिक्स
  • न्यूरोलॉजी
  • फिजियोथेरेपी इन कार्डियो डिसऑर्डर

ऊपर बताए गए सभी विषयों की पढ़ाई अलग-अलग साल में करने के बाद आखिरी छह महीने में आपको किसी संस्था के साथ जुड़कर इंटर्नशिप काम करना होगा जिसमें उनके बताए गए निर्देश के अनुसार आपको कार्य करना होगा और आप 6 महीने के इंटर्नशिप के दौरान प्रैक्टिकल नॉलेज सीखेंगे कि किस तरह मालिश करके सही नस को दबा कर के और इस तरह अलग-अलग तरह के दवाई और इलेक्ट्रॉनिक इंस्ट्रूमेंट के जरिए शरीर के मूवमेंट में आई परेशानी का इलाज किया जाता हैं।

भारत में बीपीटी कोर्स के लिए टॉप कॉलेज

अगर ऊपर बताई गई जानकारियों को पढ़ने के बाद आप इस कोर्स में दाखिला लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किस कॉलेज में एडमिशन लेना चाहिए इसे समझाने के लिए हमने भारत के टॉप बीपीटी कोर्स के कॉलेज की सूची नीचे दी है। हमने जितने कॉलेज की सूची नीचे दी है वह प्राइवेट कॉलेज की सूची है अगर आप प्राइवेट कॉलेज से बीपीटी करना चाहते है तो नीचे बताए गए कॉलेजों की सूची को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

  • Sri Ramachandra Medical College and Research Institute, Chennai
  • Christian Medical College, Vellore
  • Ahmedabad Physiotherapy College, Ahmedabad
  • Assam Women’s University, Jorhat

यह भारत के कुछ सबसे प्रचलित प्राइवेट मेडिकल कॉलेज है इनके अलावा आप अपनी सुविधा के अनुसार कहीं भी एडमिशन करवा सकते है, मगर इन सभी कॉलेज में एडमिशन करवाते वक्त आपको केवल 12वीं क्लास के मेरिट लिस्ट लगेगी किसी भी प्रकार का एंट्रेंस एग्जाम पास करना नहीं पड़ेगा।

BPT कोर्स करने के लिए फीस

इस कोर्स को करने में कितना खर्च आएगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप यह कोर्स कहां से कर रहे हैं अलग अलग कॉलेज की अलग अलग चीज होती है यह इस बात पर निर्भर करती है कि वह कॉलेज आपको कितने तरह की सुविधा दे रहा है मगर साधारण तौर पर हम एक प्रमुख फीस की बात करें तो किसी सरकारी कॉलेज से बीपीटी कोर्स करने में आपको ₹20000 से ₹50000 सालाना की दर से खर्च लग सकता हैं।

अगर यह कोर्स आप किसी प्राइवेट इंस्टिट्यूट से करते हैं तो अलग अलग प्राइवेट कॉलेज की अलग अलग चीज होती है मगर प्रमुख फीस इस कोर्स के लिए आमतौर पर ₹100000 से ₹400000 हो सकती हैं।

BPT कोर्स की कितनी सैलरी होती है

हम कोई भी गौर से इसलिए करते हैं ताकि हम अच्छा पैसा कमा सकें आने वाले समय में अगर आप बीपीटी कोर्स के जरिए अपना करियर बनाना चाहते हैं और अच्छा पैसा कमाना चाहते हैं तो आपको बता दें यह कोर्स एक बेहतरीन मेडिकल कोर्स है जो आपको लाखों की सैलरी दे सकता है मगर यह निर्भर करता है कि आप किस हॉस्पिटल में डॉक्टर के तौर पर कार्य कर रहे हैं या फिर खुद का क्लीनिक चला रहे हैं।

आज के समय में लोगों को जोड़ो के दर्द की समस्या रहती है जिसके लिए वह बीपीटी डॉक्टर की तलाश करते हैं तो अगर आप अपना खुद का क्लीनिक खोलते हैं तो वह कितना चलता है इसके आधार पर निर्भर करेगा कि आप कितना कमा सकते हैं आमतौर पर बाजार में एक बीपीटी डॉक्टर के क्लीनिक की तनख्वाह का अंदाजा लगाया जाए तो यह ₹100000 प्रति माह से ₹200000 प्रति माह तक होता हैं।

इसके अलावा अगर हम किसी हॉस्पिटल के साथ नौकरी की बात करें तो आपकी तनख्वाह आपके अनुभव पर निर्भर करती है शुरुआती दौर में आप अगर किसी हॉस्पिटल से बीबीडी डॉक्टर के तौर पर जुड़ते हैं तो आपकी तनख्वाह ₹20000 प्रति माह से ₹30000 प्रति माह होगी मगर धीरे-धीरे आपके अनुभव के आधार पर यह तनख्वाह बढ़ते हुए ₹100000 प्रति माह तक जा सकती हैं।

निष्कर्ष

अगर आपको BPT Course Details in Hindi लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना और इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Junaid Bashir

Hi friends!! मेरा नाम Junaid Bashir है और मैं इस ब्लॉग का मालिक हूँ। इसके साथ-साथ मैंने इस ब्लॉग इसलिए बनाया है। क्योंकि मुझे लोगों की मदद करना बहुत ही अच्छा लगता है और अगर आप मेरे बारे में विस्तार से जानना चाहते है तो फिर उसके लिए आप इस ब्लॉग का About Us पेज पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply