HTML क्या है – HTML कैसे काम करता है जानिए हिंदी में

अगर आप कम्प्यूटर सीखना चाहते है तो आपने HTML शब्द सुना होगा आम तौर पर लोग इसे कंप्यूटर के भाषा के रूप में जानते है, इस लेख में हम आपको बताने जा रहे है कि HTML Kya Hai? आज हर काम इंटरनेट के जरिए मोबाइल और कंप्यूटर पर सिफ्ट होता जा रहा है। यहां तक की जब हमे किसी चीज का ज्ञान चाहिए होता है तो भी हम मोबाइल या कंप्यूटर पर इन्टरनेट का इस्तमाल करते है तो क्या आपको पता है आप जिस भी जानकारी को अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर पड़ते है वह वेबसाइट कंप्यूटर की भाषा से बना होता है। HTML भी कम्प्यूटर की एक भाषा है जिसका इस्तेमाल हम वेबसाइट बनाने के लिए करते हैं। 

अगर आप किसी अच्छी कंपनी में नौकरी पाना चाहते है तो आपको कंप्यूटर के भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है HTML कुछ सबसे आसान भाषाओं में से एक माना जाता है जिसे बड़ी आसानी से कोई भी सीख सकता है इस कंप्यूटर भाषा से जुड़ी कुछ रोचक बातें आपको इस लेख में बताई जा रही है उसे ध्यान से पढ़ें। 

HTML क्या हैं

HTML कंप्यूटर का एक भाषा है जिसका इस्तेमाल हम वेबसाइट या कोई वेब पेज बनाने के लिए करते है। कंप्यूटर में ज्यादातर भाषा ऐसी होती है जिनके लिए आपको एक खास प्लेटफार्म की जरूरत होती है मगर HTML बहुत ही सरल और प्लेटफार्म फ्री भाषा है अर्थात आप HTML भाषा को बड़ी आसानी से सीख सकते है और बिना किसी खास प्लेटफार्म के इसको इस्तेमाल कर सकते हैं। 

HTML भाषा से वेबसाइट बनाई जाती है जिससे इंटरनेट के माध्यम से दुनिया में बैठा कोई भी व्यक्ति कहीं से भी देख सकता है अर्थात आप आज इंटरनेट पर किसी भी जानकारी को पढ़ते है तो वह सारी वेबसाइट HTML भाषा से बनाई जाती है। इस कंप्यूटर भाषा की खोज Tim Berners-Lee ने 1980 में जिनेवा के एक लैब में की थी। 

HTML का इस्तेमाल कहां पर किया जाता हैं

HTML एक कम्प्यूटर का भाषा है, जिसका इस्तेमाल आप अपने कंप्यूटर में वेबसाइट बनाने के लिए कर सकते है। आप गूगल पर जो भी जानकारी देखते है वह किसी वेबसाइट या वेब पेज के जरिए दिखाया जाता है, अगर आपको ऐसी ही किसी जानकारी को गूगल पर प्रचलित करना हैं।

तो इसके लिए आपको एक वेबसाइट बनाना होगा जो HTML भाषा से बनाया जाता है। ऐसा नहीं है कि एक वेबसाइट बनाने के लिए केवल HTML भाषा का इस्तेमाल किया जाता है, कंप्यूटर में ऐसे और भी भाषा होते हैं मगर एक वेबसाइट का रूप रंग निर्धारित करने वाला भाषा HTML ही होता हैं।

HTML का इस्तेमाल करने के लिए आपको एक साधारण सा टेक्स्ट एडिटर चाहिए होता है जैसे नोटपैड, और उस टेक्स्ट एडिटर पर आपको HTML का कोड लिखना है। उसके बाद आपको एक ब्राउज़र चाहिए जो इंटरनेट से जुड़ा हुआ हो जहां आप अपने ओल्ड अनुसार निर्मित वेबसाइट के रूप रेखा को देख सकें। 

HTML का कोड काफी आसान होता है बहुत सारे छोटे-छोटे कोड जिनसे आपकी वेबसाइट निर्मित होती है उसे टैग कहते है ऐसे ही बहुत सारे टैग के मिलने से एक वेबसाइट का निर्माण होता है। उम्मीद करते हैं आप यह समझ गए होंगे कि HTML का इस्तेमाल हम किस प्रकार और कहां करते हैं। 

HTML फुल फॉर्म इन हिंदी

HTML एक प्रचलित कंप्यूटर भाषा है इसका फुल फॉर्म Hypertext markup language होता है। हाइपरटेक्स्ट एक साधारण टेक्स्ट किसी तरह होता है मगर यह टेक्स्ट अपने साथ किसी दूसरे टेक्स्ट को जुड़े हुए हो रखता है जिसकी मदद से हम वेब को एक्सप्लोरर कर पाते है। अर्थात इंटरनेट पर मौजूद वह सारे टेक्स्ट जिस पर आप क्लिक करते है तो कुछ होता है उसे हम हाइपरटेक्स्ट कहते हैं। 

मार्क अप का अर्थ होता है तरसाना अर्थात HTML टैग में मौजूद हर एक टेक्स्ट कुछ ना कुछ दर्शाता है, तो प्रत्येक HTML टैग अपने बीच आने वाले टेक्स्ट को किस प्रकार परिभाषित करता है उसे हम मार्क अप कहते हैं। 

अंत में जो आपने लैंग्वेज शब्द पड़ा उसका अर्थ होता है भाषा जिससे यह बात साबित होती है कि HTML कंप्यूटर का एक भाषा होता है जिसमें बहुत सारे मार्क अप होते है जो अपने बीच आने वाले टेक्स्ट को परिभाषित करते है जिससे वो टेक्स्ट एक हाइपरटेक्स्ट के रूप में इस्तेमाल किया जा सके। 

यह भी पढ़ें

HTML Tag क्या होता हैं

जैसा कि अब तक आपने यह समझा होगा कि HTML एक भाषा है हर भाषा की तरह इसमें भी कुछ शब्द होते है उन शब्द को ब्रैकेट के अंदर लिखा जाता है जैसे – <BOLD> इस तरह से हम दो ब्रैकेट के बीच में कुछ खास कीवर्ड लिखते है जिस कीवर्ड का प्रभाव हमारे वेबसाइट पर पड़ता है और इन्हें tags कहते हैं। 

HTML भाषा में विभिन्न प्रकार के टाइप होते है हर टैग के बीच अलग-अलग प्रकार के कीवर्ड होते है जिनका इस्तेमाल हमारे वेबसाइट पर अलग-अलग तरह के रूप रेखा प्रदान करने के लिए किया जाता है। उनमें से कुछ खास एक के बारे में नीचे बताया गया हैं।

HTML भाषा में हर टैग का शुरुआत और अंत दोनों होता है अर्थात् जब हमें किसी टैग का इस्तेमाल करना होता है तो हम पहले उस टैग को ओपन करते है उसके बाद अपनी बात लिखते है और फिर उस टैग को बंद करते हैं। 

जैसे – अगर हमें किसी चीज को इटैलिक तरीके से लिखना है तो हम <I> लिख कर इटैलिक टैग को सुरु या ओपन करेंगे फिर अपनी बात लिख कर </I> इस तरह उस टैग को बंद कर देंगे। 

किसी भी टैग को शुरू करने के बाद हम अपनी मन की बात लिखते है जिस पर उस टैग का प्रभाव पड़ता है जब हमारा काम हो जाता है तब आप उस टैग के अंदर एक लंबा सा डंडा देखेंगे होंगे जिसका अर्थ होता है कि यहां वह टैग बंद होता हैं।

HTML Tag के प्रकार

HTML टैग खास प्रकार के कोड होते है जिनका इस्तेमाल हम HTML भाषा में अपनी वेबसाइट की रूपरेखा में किसी खास प्रकार के परिवर्तन को करने के लिए इस्तेमाल करते हैं। 

HTML भाषा में टैग दो प्रकार के होते है, जिम के बारे में विस्तारपूर्वक नीचे बताया गया है उन्हें ध्यान से पढ़ें – 

  • Paired Tags
  • Singular Tags

1. Paired Tags

ये वो खास प्रकार के टैग होते है जिनका इस्तेमाल करने के लिए आपको इन टैग्स को ओपन करना पड़ता है और फिर बंद करना पड़ता है। अर्थात अगर आपको अपनी वेबसाइट में किसी भी प्रकार का परिवर्तन करना है तो आपको इस खास प्राकर के टैग को लिखना होगा जहां से वो टैग अपना काम शुरू करेगा और जब आपको यह लगेगा कि आपका काम हो गया है तो आपको इस टैग को बंद करना होगा। 

जैसे – <B> </B> = इस टैग का इस्तेमाल करके आप अपनी वेबसाइट में मौजूद किसी भी टेक्स्ट को बोल्ड कर सकते है मगर इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको सर्वप्रथम इस टैग को शुरू करना होगा और फिर इस टाइप को बंद करना होगा। 

2. Singular Tags

यह एक खास किस्म का टैग होता है जिसका इस्तेमाल करने के लिए आप को बंद या शुरू करने की आवश्यकता नहीं है आपको केवल यह टैग लिख देना है जिसके बाद आपका काम हो जाएगा। 

जैसे – <BR> = जब हम लाइन खत्म करके दूसरे लाइन से काम शुरू करना होता है तो हम बीच में इस टैग का इस्तेमाल करते है इस टैग को शुरू करके खत्म करने की आवश्यकता नहीं होती है मगर आप जहां इस टैग का इस्तेमाल करेंगे वहां से आपका लाइन खत्म हो जाएगा और आप दूसरी लाइन से अपना काम शुरू कर सकते हैं। 

Basic Structure Of HTML In Hindi

जब आप अपने कंप्यूटर में HTML भाषा का इस्तेमाल कर रहे है तब आपको यह पता होना चाहिए कि HTML भाषा का इस्तेमाल किस प्रकार करते है अर्थात इस भाषा को किस प्रकार लिखते हैं। 

जैसा कि हम जानते है HTML भाषा एक कंप्यूटर कोड होता है इसको लिखने के लिए इसे दो भागों में विभाजित किया जाता है पहला भाग जो HTML के हेडर कोड होते है जो बताते है कि यहां से एसटीएमएल भाषा शुरू होती है साथ ही हमारे वेबसाइट का नाम और टाइटल तय करते हैं। 

दूसरा भाग बॉडी को कहते है अर्थात हम बॉडी टैग्ड इस्तेमाल करके अपने HTML की वेबसाइट रूपरेखा तैयार करना शुरू करते हैं।

HTML टैग की एक रूपरेखा नीचे दी जा रही है उसे ध्यान से पढ़ें। 

<HTML>

<HEAD><Title> Write Title </Title></Head>

<Body>

This is the body of webpage </Body>

</HTML>

ऊपर जिस तरह से कोड लिखा गया है ठीक उसी तरह हम एचटीएमएल का कोड लिखते है और जितना विभिन्न प्रकार का टैग आप इस्तेमाल करेंगे आपका वेबसाइट उतना ही अच्छा दिखने लगेगा। 

HTML के फायदे

इसके कंप्यूटर भाषा के बहुत सारे फायदे है जिन्हें विस्तारपूर्वक नीचे बताया गया है ध्यान से पढ़ें। 

  • HTML भाषा काफी आसान है और यूजर फ्रेंडली हैं। 
  • इस कंप्यूटर कोडिंग को आप बिना किसी खास प्लेटफार्म के सीधे अपने नोटपैड में लिखकर अपने वेबसाइट की एक रूप रेखा तैयार कर सकते हैं।
  • यह कंप्यूटर लैंग्वेज किसी भी वेब ब्राउज़र को सपोर्ट करता हैं।
  • इस भाषा को बड़ी आसानी से सीख सकते है इसके लिए बहुत ज्यादा मेहनत और समय की आवश्यकता नहीं होती हैं।
  • इस अकॉर्डिंग की मदद से हम अपनी वेबसाइट बनाते है और अपनी जानकारी को पूरे विश्वभर में कहीं भी पहुंचा सकते हैं। 

HTML के नुकसान

इस भाषा के कुछ नुकसान भी है जिनके बारे में आपको नीचे विस्तार पूर्वक बताया गया हैं।

  • हम केवल HTML का इस्तेमाल करके एक पूरी वेबसाइट का गठन नहीं कर सकते हैं। 
  • एक ऐसी वेबसाइट जिसमें विभिन्न प्रकार की खासियत हो उसे HTML भाषा की मदद से बनाने में काफी मेहनत लगेगा और बहुत मुश्किल हो जायेगा। 
  • हम केवल HTML भाषा का इस्तेमाल करके कुछ नही कर सकते हम इस भाषा के साथ किसी और भाषा को जोड़कर काम करना पड़ता हैं।

HTML के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

यहाँ पर मैंने ऐसे पांच सवालों के जवाब दिए है जो की अक्सर लोग HTML के बारे में पूछते रहते हैं।

Q. HTML का फुल फार्म क्या होता हैं?

HTML का फुल फॉर्म Hypertext markup language होता हैं।

Q. HTML का इस्तेमाल क्यों करते हैं?

हम HTML का इस्तेमाल वेबसाइट बनाने के लिए करते है। मगर केवल इस भाषा का इस्तेमाल करके हमें पूर्ण वेबसाइट का निर्माण नहीं कर सकते इसके साथ हमें किसी और भाषा का भी इस्तेमाल करना पड़ता हैं।

Q. HTML भाषा की खोज किसने की थी?

HTML भाषा की खोज Tim Berners-Lee ने 1980 में जिनेवा के एक लैब में की थी।

Q. HTML का इस्तेमाल कब करते हैं?

हमें जब किसी वेबसाइट की रूपरेखा बनानी होती है तब हम HTML भाषा का इस्तेमाल करते हैं। 

Q. HTML भाषा को शुरू करने के लिए किस टाइप का इस्तेमाल किया जाता हैं?

HTML भाषा को शुरू करने के लिए <HTML> टैग का इस्तेमाल किया जाता हैं।.

निष्कर्ष

अगर आपको HTML Kya Hai लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना। इसके अलावा अगर आपको इस लेख से सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप निचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply