IFSC Code क्या होता है – अपने बैंक का आईएफएससी कोड कैसे पता करें

अगर आप किसी को पैसा ट्रांसफर करने के लिए बैंक गए होंगे तो आपको पता होगा कि इस प्रक्रिया में आपको बैंक की कितनी लंबी लाइन में लगना पड़ता है। अगर बैंक आपके घर से दूर है तो आपको पेट्रोल खर्चा करना पड़ता है लाइन में लगते हुए वक्त बर्बाद होता है और बहुत सारी परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है। इसी परेशानी का हल ढूंढते हुए बैंक वालों ने एक कोड का निर्माण किया जो उनके नाम और एड्रेस (पता) के आधार पर तय होता हैं। 

अगर आपने भी कभी बैंक के पासबुक पर IFSC कोड देखा है और उस कोड का अर्थ समझने का प्रयास करते हुए IFSC Code Kya Hota Hai सर्च किया है तो आज आप बिल्कुल सही जगह पर है। आज हम आपको बताएंगे कि बैंक को इस खास प्रकार के कोड की आवश्यकता क्यों पड़ती है और किस तरह से यह कोड किसी को पैसे भेजने की प्रक्रिया में लाभदायक होता है। तो जुड़े रहिए इस लेख के साथ और पढ़ें की आईएफएससी कोड क्या होता है के बारे में विस्तार से।

IFSC Code क्या होता हैं 

IFSC कोड एक खास किस्म का कोड होता है जिसकी मदद से बैंक का पता और बैंक का नाम स्टोर कर के रखा जाता है। जैसा कि आप जानते होंगे हमारे देश में लाखों बैंक है अब हर बैंक को नाम से याद रखना काफी मुश्किल है इस वजह से हर बैंक का नाम याद रखना काफी मुश्किल है इस वजह से हर बैंक अपने ब्रांच का पता के हिसाब से एक कोड बनाता है, जिसका इस्तेमाल करके बैंक अपना डिटेल एक जगह रख पता हैं। 

हर बैंक के ब्रांच का अलग-अलग IFSC कोड होता है जो भारत में RBI के द्वारा दिया जाता है इस IFSC कोड में 11 कैरेक्टर होते है जो हर ब्रांच को एक अलग पहचान देते है। बैंक मैं विभिन्न प्रकार के ट्रांजैक्शन होते हैं RBI भारत में मौजूद किसी भी बैंक के ब्रांच का पता आसानी से प्राप्त कर सके और NEFT ट्रांजैक्शन में मदद हो सके इस वजह से हर बैंक के ब्रांच को IFSC कोड प्रदान करता हैं।

RTGS, NEFT और CFMS कुछ इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट है जिन्हे पूरा करने में IFSC कोड का इस्तमाल किया जाता है। इस कोड में 11 कैरेक्टर या अंक होते है जिसमे पहले 4 कैरेक्टर बैंक के नाम को दर्शाता है उसके बाद एक 0 (सुन्य) होता है और आखिरी 6 अंक बैंक ब्रांच या वह सांखा कहा है इस बात पर निर्धारित करते हुए RBI ke द्वारा दिया दिया जाता हैं।

IFSC फुल फॉर्म इन हिंदी

IFSC का फुल फॉर्म Indian Finance System Code होता है जिसे हिंदी में भारतीय वित्तीय प्रणाली संहिता कहते हैं। 

जिसका अर्थ होता है भारत में मौजूद वित्तीय प्रणाली में इस्तमाल की जाने वाली संहिता या कोड। अब जैसा कि हम जानते है भारतीय वित्तीय प्रणाली को RBI संभालती है जो भारत में मौजूद सभी प्रकार के बैंकों और उनके संखाओ में पैसों के लेनदेन की जिम्मेदारी उठाती हैं।

IFSC Code किसने बनाया हैं

आपने आरबीआई का नाम सुना होगा यह भारत का राष्ट्र बैंक है जिसकी स्थापना 1935 में की गई थी मगर इसे राष्ट्र बैंक की उपाधि 1949 को दी गई। राष्ट्रीय बैंक बनने के बाद आरबीआई भारत में भारतीय रुपए पर काबू रखने के अलावा बैंक को चलाने का काम करता है साथ ही एक बैंक दूसरे बैंक को पैसे लेनदेन करते है तो इस पर भी आरबीआई का काबू रहता हैं।  

किस बैंक की कौन सी शाखा भारत के किस जगह पर है इस बात का रिकॉर्ड रखने के लिए ही उन्होंने IFSC कोड की शुरुआत की और इस कोड के जरिए आप एक बैंक में खाता खुलवा कर किसी और बैंक के ATM से पैसा निकाल सकते है क्योंकि वह बैंक आपके IFSC कोड के जरिए इस बात को पता कर सकता है कि आप किस बैंक के शाखा से ताल्लुक रखते हैं। 

अर्थात बैंकों में हो रहे इलेक्ट्रॉनिक लेन-देन और आप किस बैंक के शाखा से ताल्लुक रखते है इस बात को समझने के लिए भारत के राष्ट्रीय बैंक RBI ने IFSC कोड की शुरुआत की। 

IFSC Code किस लिए जरूरत होता हैं

यह कोड न केवल बैंक के लिए बल्कि आम इंसान के लिए भी बेहद जरूरी कोड है। इसका इस्तेमाल करके ही आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन कर पाते है। इस बात का भले ही हमें पता नहीं चलता लेकिन आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन तभी कर पाते हैं जब आपके बैंक का IFSC कोड रिकॉर्ड होता है क्योंकि केवल तभी बैंक यह समझ पता है की आप अपने किस बैंक की शाखा से पैसा दूसरे किस बैंक की शाखा में भेजना चाहते हैं। 

आनलाइन या किसी भी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट में IFSC कोड की अहम भूमिका रहती है क्योंकि केवल तभी आप पैसा भेज पाते है। इसके अलावा IFSC कोड की और भी जरूरते हैं।  

जैसे इसी IFSC कोड की मदद से RBI बैंक यह समझ पता कर पाता है कि आपका खाता भारत के किस बैंक के कौन सी शाखा में खुला है और वह हर बैंक के अलग-अलग शाखा का रिकॉर्ड अपने पास रख पाता है जिससे किसी भी प्रकार का फ्रॉड ना हो सके। 

IFSC Code कैसे पता करें

यह कोड क्या है और इसकी जरूरत क्यों पड़ती है आप यह समझ गए होंगे और आपको यह बात पता होनी चाहिए की आपके बैंक शाखा का IFSC कोड उतना ही महत्वपूर्ण है जितना आपका बैंक अकाउंट नंबर तो अब हम आपको यह बताने जा रहे है कि आप अपने बैंक शाखा का IFSC कोड कैसे पता कर सकते हैं। 

IFSC कोड पता करने के बहुत सारे तरीके है और वो सभी तरीके आपको नीचे दिए गए हैं आप नीचे बताए गए किसी भी तरीके से अपना IFSC कोड पता कर सकते हैं। 

1. बैंक में पता कर सकते हैं

यह तरीका ज्यादातर लोग इस्तेमाल नहीं करते मगर यह भी एक अच्छा तरीका है कि आप अपने बैंक शाखा में स्वयं जाकर यह पता कर सकते है कि उस शाखा का IFSC कोड क्या हैं।

ज्यादातर बैंक शाखा में उनका IFSC कोड दरवाजे के पास लिखा हुआ रहता है किसी किसी शाखा में अगर यह सुविधा नहीं भी होती है तो आप अपने बैंक शाखा में जाएं और वहां मौजूद किसी भी व्यक्ति से आप अगर पूछेंगे कि इस बैंक का IFSC कोड क्या है तो वह आपको तुरंत बता देगा। 

याद रहे IFSC कोड हर व्यक्ति के लिए अलग अलग नहीं होता यह केवल उस बैंक और उसकी विभिन्न शाखाओं के लिए अलग-अलग होता है अर्थात जिस शाखा में आपका खाता है अगर उसी शाखा में किसी और व्यक्ति का खाता होगा तो उसका IFSC कोड और आप का IFSC कोड एक ही होगा मगर जब आप बैंक का शाखा या बैंक का नाम बदलेंगे तभी केवल IFSC कोड बदलता हैं।

2. बैंक पासबुक से पता कर सकते हैं 

जब आप भारत के किसी बैंक में खाता खुलवाने तो आपको उस बैंक की ओर से एक पासबुक दिया जाता है जिस पासबुक के पहले पन्ने पर आपको आपका नाम और अकाउंट नंबर लिखा हुआ देखेगा। 

इस पासबुक के पहले पन्ने में जहां आपने अपना नाम देखा है उसी सूची में नीचे जाने पर आपको एक IFSC कोड का विकल्प भी दिखेगा जहां आप अपनी बैंक शाखा का IFSC कोड देख सकते हैं। 

4. चेकबुक से पता कर सकते हैं

जब आप किसी बैंक में खाता खुलवाने है तो वहां से आपको चेक बुक भी दिया जाता है अगर आपको चेक बुक नहीं मिला है तो आप अपनी बैंक शाखा में जाकर इसका अनुरोध कर सकते हैं। 

बैंक की ओर से जो चेक बुक दिया जाता है उसमें IFSC कोड लिखा रहता है जिस वजह से आपका यह चेक बुक भारत में कहीं भी मान्य होगा उस चेक बुक में जो IFSC कोड लिखा होता है उसे देख कर कोई भी दूसरा बैंक आपको पैसे दे सकता हैं।

5. आनलाइन वेबसाइट से पता कर सकते हैं

आप IFSC कोड को किस तरह पता कर सकते है इसका सबसे आसान तरीका बैंक की वेबसाइट के जरिए है। हमें पता है की हर बैंक का अपना एक अधिकारिक वेबसाइट होता है हम उसकी बात नहीं कर रहे, आप किस तरह आनलाइन अपनी बैंक शाखा का IFSC कोड पता कर सकते है, इसके लिए पूरी प्रक्रिया नीचे दिए गए हैं। 

स्टेप 1- आपको अपने मोबाइल में किसी भी ब्राउज़र को ओपन करना है और उसमें IFSC कोड वेबसाइट को सर्च करना है। 

स्टेप 2- आपको IFSC कोड बताने वाली वेबसाइट मिल जाएगी जहां आपको अपने बैंक का नाम सुनना है उसके बाद अपने राज्य और जिला का चयन करना हैं। 

स्टेप 3- इसके बाद आपको आपके इलाके में मौजूद उस बैंक के सभी शाखा का नाम दिया जाएगा अपनी शाखा को चयन करके आप क्लिक करें। 

स्टेप 4- क्लिक करते ही आपको आपकी बैंक शाखा का IFSC कोड बता दिया जाएगा।

IFSC Code के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

यहाँ पर मैंने ऐसे पांच सवालों के जवाब दिए है जो की अक्सर लोग IFSC Code के बारे में पूछते रहते हैं।

Q. IFSC Code का फुल फॉर्म क्या हैं? 

IFSC कोड का फुल फॉर्म Indian Finance System Code होता है जिसे हिंदी में भारतीय वित्तीय प्रणाली संहिता कहते हैं। 

Q. IFSC कोड कैसे पता करते हैं?

IFSC code को हम ऑनलाइन IFSC कोड वाली वेबसाईट से पता कर सकते है, या आप अपने बैंक के पासबुक से भी अपनी शाखा का आईएफएससी कोड पता कर सकते हैं। 

Q. SBI का IFSC कोड क्या हैं?

SBI का कुल 1295 बैंक शाखा भारत भर में मौजूद है और आपने उन में से किस शाखा में अपना अकाउंट खुलवाया है उस बिनाह पर आपका IFSC कोड तय होगा। 

Q. IFSC कोड की शुरुआत किसने की? 

IFSC कोड की शुरुआत भारत के राष्ट्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने 1949 में की थी। 

Q. हम IFSC कोड का इस्तेमाल क्यों करते हैं?

IFSC कोड का इस्तेमाल करने से RBI को भारत में मौजूद सभी बैंक शाखा का पता मालूम होता है और वो इसका रिकॉर्ड रख पाते हैं। इसके अलावा IFSC कोड का इस्तमाल ऑनलाइन पैसा की लेन देन में करते हैं। 

निष्कर्ष

अगर आपको IFSC Code Kya Hota Hai लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना। इसके अलावा अगर आपको इस लेख से सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप निचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply