LIC कैसे चेक करे पूरी जानकारी जानिए हिंदी में

जीवन बीमा सभी के लिए आवश्यक है भारत में सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी LIC है, बहुत सारे लोग अपना जीवन बीमा बनाने के बाद उसे चेक नहीं कर पाते अगर आप LIC Kaise Check Kare जैसी दुविधा में फंसे है, तो आज का लेख आपके लिए है हम आपको सरल शब्दों में कुछ निर्देश बताएंगे जिनका आदेश अनुसार पालन करने के पश्चात आप अपना एलआईसी चेक कर पाएंगे। 

जीवन बीमा के लिए एलआईसी सबसे पुरानी और विश्वसनीय कंपनी है बाकी जीवन बीमा कंपनी के मुकाबले भारत में एलआईसी के साथ जोड़ने वाले लोगों की संख्या बहुत अधिक है आज से कुछ साल पहले LIC का प्रीमियम भरने के लिए और एलआईसी चेक करने के लिए लोगों को उसके ऑफिस जाना पड़ता था मगर अलग-अलग तरह की परेशानियां आने की वजह से एलआईसी ने अपनी सभी सुविधाओं को मुहैया करवाया है आप किस प्रकार अपने घर बैठे LIC कैसे चेक कर सकते हैं इसके बारे में आज का लेख लिखा गया हैं।

LIC क्या होता है

LIC को हिंदी में भारतीय जीवन बीमा कहते है, लोगों को उनके जीवन के प्रति प्रीमियम के अनुसार मरने के उपरांत पैसा देने के लिए एलआईसी को बनाया गया था इसकी स्थापना 1 सितंबर 1956 को की गई थी। एलआईसी का मोटो तो “जिंदगी के साथ भी जिंदगी के बाद भी है”।

एलआईसी एक कंपनी है जो आपको जीवन बीमा देती है जीवन बीमा करवाने से आप कुछ प्रीमियम भरते है और मैच्योरिटी के दिन तक आपको वो प्रीमियम भरते रहना होता है अगर आप मैच्योरिटी के दिन से पहले दुर्भाग्यवश अगर आपकी मृत्यु हो जाती है तो जीवन बीमा की रकम आपके परिवार को दी जाती है अगर मैच्योरिटी के दिन तक आप जीवित रहते है तो आपकी कुल जमा की गई राशि में से कुछ प्रतिशत काट कर वापस दिया जाता है जो एकमुश्त रकम होती हैं।

आपके पास आपके परिवार की सुरक्षा के लिए जीवन बीमा बहुत आवश्यक होता है इस वजह से प्रत्येक नागरिक को अपना एक जीवन बीमा रखना चाहिए। जीवन बीमा कराने के वजह से आपके मरने के बाद घर वालों को आर्थिक मदद मिलती हैं।

LIC का फुल फॉर्म क्या है

LIC का फुल फॉर्म Life Insurance Company होता हैं।

हिंदी में हम एलआईसी को भारतीय जीवन बीमा निगम बोलते है। भारत की कुछ सबसे विश्वसनीय और सबसे बड़ी कंपनियों में से एक लालची को माना जाता है वर्तमान समय में 1 लाख से ज्यादा लोग इस कंपनी में काम कर रहे हैं।

LIC के प्रकार

बहुत सारे लोगों को लगता है कि जीवन बीमा में आपको कुछ दस्तावेज जमा करना है एक रकम चुन्नी है और प्रीमियम भरना है मरने के उपरांत पैसा लेना है लेकिन ऐसा नहीं है जीवन बीमा को अलग-अलग प्रकार में विभाजित किया गया है जिसके बारे में प्रत्येक व्यक्ति को जानकारी होनी चाहिए।

जीवन बीमा को कुल आठ प्रकार में विभाजित किया गया हैं।

1. टर्म लाइफ इंश्योरेंस

टर्म लाइफ इंश्योरेंस एक ऐसा इंश्योरेंस होता है जिसमें कंपनी को आप पहले ही बता देते हैं कि आपको कितना रुपया चाहिए निर्धारित समय तक अगर अब जीवित रहते हैं तो आपके प्रीमियम को जोड़कर एक मुश्त राशि आपको दे दी जाती है अगर आप मैच्योरिटी से पहले दुर्भाग्यवश मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं तो जितनी राशि निर्धारित की गई होती है आपको उतनी राशि दे दी जाती हैं।

इस इंश्योरेंस में कंपनी आपके स्वास्थ्य के हिसाब से आपको पैसा नहीं देता है एक निश्चित राशि पहले ही तय कर देता है उदाहरण के तौर पर आज से 10 साल पहले अगर किसी व्यक्ति ने ₹100000 का लाइफ इंश्योरेंस 10 साल के लिए करवाया था और आज वह मर जाता है तो उसके परिवार को ₹100000 दे दिया जाएगा।

2. एडोमेंट पॉलिसी

इसे एक एडोमेंट पॉलिसी कहते है, इसे आप एक निवेश और बीमा कम मिश्रण कह सकते हैं। इसमें पॉलिसी धारक को सबसे ज्यादा प्रीमियम देना पड़ता है यह एक ऐसी पॉलिसी होती है जिसके अनुसार पॉलिसी धारक को पॉलिसी का प्रीमियम देते रहना पड़ता है और दुर्भाग्यवश अगर पॉलिसी धारक की मृत्यु हो जाती है तो प्रीमियम का पूरा पैसा जोड़कर बेनिफिशियरी को दे दिया जाता हैं।

3. मनी बैक पॉलिसी

यह एक तरह का एंडोमेंट पॉलिसी होता है, अंतर बस इतना होता है कि मैच्योरिटी के बाद जितना भी एश्योर्ड सम है वह एक साथ ना मिलकर किस्तों में मिलता है। अगर मैच्योरिटी के बाद या पॉलिसी का प्रीमियम भरने के दौरान ही पॉलिसी धारक की मृत्यु हो जाती है तो पॉलिसी में बोनस के साथ प्रीमियम का सारा पैसा किस्तों में बेनिफिशियरी को दिया जाता है। इस पॉलिसी का भी प्रीमियम बहुत महंगा होता हैं।

4. Service and Investment Plan

इस तरह का प्लान लेने पर घर खर्च के लिए एक निश्चित राशि दी जाती है। इस तरह के प्लान में आपको किसी निश्चित लक्ष्य के लिए निश्चित धनराशि दी जाती है। इसमें आपको एक लक्ष्य के लिए निर्धारित रकम और अलग-अलग लक्ष्य के हिसाब से प्रीमियम भरना पड़ता है जिसके लिए धनराशि आपके परिवार को भी दी जाती हैं।

5. यूनिलेप

जिस तरह एंडोमेंट और मनी बैक पॉलिसी में एक रकम तय कर दी जाती है इसमें ऐसा नहीं होता आपके सारे प्रीमियम को शेयर बाजार, म्यूचुअल फंड, और बाउंड में लगाया जाता है उससे आपको जो पैसा मिलता है वह बाजार के हिसाब से मिलता है आपका लगाया हुआ पैसा बाजार पर निवेश कर दिया जाता है और बाजार के उतार-चढ़ाव के अनुसार आपका पैसा भी ऊपर नीचे होते रहता हैं।

पॉलिसी होल्डर अपना प्रीमियम समय पर भर रहा है और अगर दुर्भाग्यवश पॉलिसी होल्डर की मृत्यु हो जाती है तो यूनिलेप में जितना भी पैसा शेयर बाजार में लगाया हुआ रहता है उस समय बाजार की स्थिति के अनुसार आपको दिया जाता है आप अगर चाहे तो अपना पैसा शेयर बाजार में छोड़ भी सकते हैं जब बाजार में चढ़ाव आए तब अपना पैसा ले लीजिए इसके अलावा आप अपने प्रीमियम का कितना हिस्सा बाजार पर लगाना चाहते हैं यह भी आप स्वयं तय कर सकते हैं।

6. Whole life insurance

यह एक बेहतरीन तरीका हे लाइफ इंश्योरेंस करवाने का अगर आप कोई जीवन बीमा में टर्म इंश्योरेंस या कोई दूसरा इंश्योरेंस कराते हैं तो उसमें पॉलिसी होल्डर की मृत्यु 65 वर्ष से 70 वर्ष के बीच होनी चाहिए इसके बाद मृत्यु होने पर आफ डेथ क्लेम नहीं कर सकते। मगर Whole Life insurance करवाने पर 95 वर्ष से पहले अगर पॉलिसी धारक की मृत्यु हो जाती है तो उसे प्रीमियम का पूरा पैसा बेनिफिट के साथ मिलता हैं।

इस इंश्योरेंस के पैसे को आसंकी रूप से विद्रोह करने की छूट भी दी जाती है। इसके अलावा पॉलिसी होल्डर अपने इंश्योरेंस के पैसे को लोन के तौर पर समय से पहले भी ले सकता हैं।

7. चाइल्ड इंश्योरेंस पॉलिसी

यह एक बेहतरीन इंश्योरेंस पॉलिसी होता है जिसमे बच्चों के ऊपर होने वाले खर्च और शिक्षा के लिए किया जाता है इसमें पॉलिसी होल्डर कुछ दिन तक निर्धारित प्रीमियम भरता है और दुर्भाग्यवश पॉलिसी होल्डर की मृत्यु हो जाने के बाद बच्चों को निश्चित आयु ताकत बढ़ाने के लिए कंपनी प्रीमियम अपनी तरफ से जारी रखती है पॉलिसी होल्डर के घरवालों को प्रीमियम भरने की अब कोई आवश्यकता नहीं होती है और उन प्रीमियम के बदले जितना भी इंश्योरेंस का पैसा बनता है वह घर भेज दिया जाता है पॉलिसी होल्डर के जगह पर कंपनी उसी तरह प्रीमियम भरना जारी रखती है जैसे पॉलिसीहोल्डर भरता था तब तक चलता रहता है जब बच्चे निश्चित शिक्षा प्राप्त नहीं कर लेते।

8. रिटायरमेंट प्लान पॉलिसी

यह लाइव कवरेज वाला पॉलिसी नहीं होता है इसमें पॉलिसी होल्डर प्रीमियम भरता रहता है और एक निश्चित अवधि के बाद पेंशन कंपनी के तरफ से दिया जाता है अगर पॉलिसी होल्डर की मृत्यु हो जाती है तो बेनिफिशियरी को प्रीमियम और एश्योर्ड सम मैं से कुछ राशि पेंशन के रूप में हर तिमाही या छह माही पर दिया जाता हैं।

LIC कैसे चेक करें

अगर LIC को समझने के बाद आपने LIC के लिए आवेदन किया है और अपना जीवन बीमा चेक करना चाहते है, तो आपको कुछ निर्देशों का आदेश अनुसार पालन करना होगा जिसके बारे में सरल शब्दों में नीचे बताया गया हैं। 

1. सबसे पहले LIC के आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं

एलआईसी की अपनी एक अधिकारिक वेबसाइट है जिसके बारे में अगर आपको जानकारी नहीं है तो गूगल पर एलआईसी सर्च करें पहला विकल्प आपको एलआईसी के अधिकारिक वेबसाइट का मिलेगा जिस पर आप को क्लिक करना हैं।

इसके अलावा अब गूगल प्ले स्टोर से एलआईसी के आधिकारिक एप्लीकेशन को निशुल्क डाउनलोड कर सकते हैं।

2. कस्टमर पोर्टल पर क्लिक करें

अधिकारिक वेबसाइट हो या एप्लीकेशन आपको दोनों जगहों पर कस्टमर पोर्टल का विकल्प मिलेगा जिस पर क्लिक करना हैं।

जैसे हि आप एलआईसी के आधिकारिक वेबसाइट के कस्टमर पोर्टल पर क्लिक करेंगे आपके समक्ष एक फोन खुलेगा जिसे आपको भरना हैं।

3. आवेदन फॉर्म भरे

ऊपर बताए गए निर्देशों का पालन करने के बाद आपके समक्ष एक फॉर्म खुलेगा जिस में पूछे गए सवालों को आदेश अनुसार भरने के बाद आप अपने पॉलिसी के बारे में जानकारी एकत्रित कर सकते हैं आपके सामने जो फॉर्म खुलेगा उसमें पॉलिसी नंबर पैन नंबर प्रीमियम राशि जैसे कुछ आवश्यक प्रश्न पूछे जाएंगे फॉर्म में पूछे गए सभी सवालों को ध्यानपूर्वक पढ़कर उन्हें आदेश अनुसार भरे।

4. प्रोसीड पर क्लिक करें और एक और फॉर्म भरे

आपके सामने जो फॉर्म खुलेगा उसके नीचे प्रोसीड का बटन होगा जिस पर क्लिक करने के बाद आपके समक्ष एक और फॉर्म खुलेगा जिसमें कुछ अन्य साधारण जानकारी पूछी जाएगी उन में पूछे गए सवालों को ध्यान पूर्वक भरने के बाद आपके सामने आपके एलआईसी का डिटेल स्टेटस आ जाएगा।

ज्योंहि आप ऊपर बताए गए फॉर्म को भर देंगे आपके समक्ष आपके LIC से जुड़ी जानकारी आएगी वहां आप अपना एलआईसी चेक कर सकते हैं आपको अपने एलआईसी में जो भी जानकारी देखना है आप वहां से देख सकते है पूरा स्टेटस आपके समक्ष डिटेल में खुल जाएगा।

ऑनलाइन एलआईसी चेक करने के फायदे

आज हर काम ऑनलाइन होता जा रहा है अगर आप अपना एलआईसी का डिटेल ऑनलाइन देखते है इससे आपको क्या-क्या फायदा होता है इसके बारे में नीचे सरल शब्दों में जानकारी दी गई हैं।

  • एलआईसी का सारा जानकारी ऑनलाइन देखने के वजह से आपको कहीं भी दफ्तर में दौड़ने की जरूरत नहीं पड़ती आप अपने घर बैठे बैठे अपनी एलआईसी का सारा डिटेल देख सकते हैं।
  • आप बिना किसी दफ्तर में दौड़े अपने घर बैठे मोबाइल पर कुछ मिनट के अंदर अपने जीवन बीमा से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी को साफ-साफ देख सकते हैं।
  • आपको ऑनलाइन कस्टमर केयर की सपोर्ट जल्दी मिलती है और कस्टमर केयर के सपोर्ट पर आप अपनी सभी समस्या का निराकरण तुरंत पा सकते है। और अपने घर में सो कर आप अपने सभी कार्य को फोन से तुरंत संपर्क कर सकते हैं।

ऑनलाइन एलआईसी चेक करने के नुकसान

ऑनलाइन एलआईसी चेक करने की प्रक्रिया बहुत ही सरल और सभी के लिए उपयोगी है मगर आपको कुछ साधारण परेशानी का सामना करना पड़ सकता है जिसे लुकसान के रूप में आपके समक्ष दिखाया जा रहा हैं।

  • ऑनलाइन प्रक्रिया में अगर आप से फॉर्म भरने में किसी भी प्रकार की गलती होती है तो आपको अलग-अलग तरह के वेरीफिकेशन प्रोसेस को पूरा करना पड़ सकता हैं।
  • अगर आपका इंटरनेट स्लो चलता है तो आप सही तरीके से अपनी जीवन बीमा की जानकारी प्राप्त नहीं कर पाएंगे।
  • ऑनलाइन एलआईसी देखने की प्रक्रिया में आपको कुछ ऐसे फॉर्म भरने की आवश्यकता होती है जिसमें संदिग्ध जानकारी को भरना पड़ता है अगर आप के फॉर्म भरने के दौरान किसी ने आपकी जानकारी को देख लिया तो उसे उसके बारे में पता चल जाएगा और इस तरह के फ्रॉड से आपको हंसना चाहिए। 

निष्कर्ष

अगर आपको LIC Kaise Check Kare लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना और इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Junaid Bashir

Hi friends!! मेरा नाम Junaid Bashir है और मैं इस ब्लॉग का मालिक हूँ। इसके साथ-साथ मैंने इस ब्लॉग इसलिए बनाया है। क्योंकि मुझे लोगों की मदद करना बहुत ही अच्छा लगता है और अगर आप मेरे बारे में विस्तार से जानना चाहते है तो फिर उसके लिए आप इस ब्लॉग का About Us पेज पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply