मोटरसाइकिल का आविष्कार किसने किया जानिए हिंदी में

MotorCycle Ka Avishkar Kisne Kiya यह आप में से कितने सारे लोगों ने इस प्रश्न का जवाब जानने का प्रयास किया है। हमें लगता है कि बहुत कम लोग ही होंगे जो इस प्रश्न का जवाब जानते होंगे या फिर जानने का प्रयास किए होंगे। दोस्तों आज हमारे जीवन में साधन का प्रमुख स्रोत मोटरसाइकिल ही बना है। आज हम मोटरसाइकिल के जरिए कभी भी कहीं पर भी अपने सुविधा और समय अनुसार जा सकते हैं।

आज से कई साल पहले जब इतने संसाधन मौजूद नहीं थे तब लोग कहीं पर भी आने जाने के लिए बैलगाड़ी आखिर पैदल यात्रा किया करते थे। मगर समय बदलता गया और फिर साइकिल का आविष्कार हुआ साइकिल के आविष्कार के बाद इसमें मोटर लगा दिया गया फिर साइकिल मोटरसाइकिल के नाम से जाने गई क्योंकि इसे मोटर के सहारे चलाया जा रहा था।

आज आपको इस लेख के माध्यम से मोटरसाइकिल का आविष्कार किसने किया? के बारे में पूरी विस्तृत जानकारी मिलने वाली है और  इसके अलावा हमने अपने पिछले लेख में बल्ब का किसने आविष्कार किया? के बारे में भी विस्तृत जानकारी प्रदान की थी चाहे तो आप उस लेख को भी पढ़ सकते हो तो फिलहाल में चलिए आज हम आपको इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में बताते हैं।

मोटरसाइकिल क्या है

मोटरसाइकिल साइकिल के जैसा कि दिखने वाला एक वाहन होता है और इस वाहन में आगे पीछे 2 छक्के लगे होते है। साइकिल को पेडल मारकर चलाना होता है जिसमें चालकता काफी ज्यादा बल उपयोग होता है। वही मोटरसाइकिल को चलाने के लिए चालक को किसी भी प्रकार का अपना स्वयं का बल नहीं लगाना होता सिर्फ इसे कंट्रोल करना होता है क्योंकि मोटरसाइकिल में किसे गति प्रदान करने के लिए मोटर का प्रयोग किया जाता है जो कि पेट्रोल की उर्जा से चलता हैं।

वर्ष 2008 और 2009 के बीच में एक सर्वे किया गया था जिसमें यह पता चला था कि भारत में उस दौरान सर्वाधिक मोटरसाइकिल की बिक्री हुई थी और बिक्री का दर लगभग 76.6% का था जो कि अपने आप में एक रिकॉर्ड था। वर्तमान समय में भी मोटरसाइकिल की बिक्री में कोई भी कमी नहीं आई है बल्कि पहले के मुकाबले अब और भी प्रकार की मोटरसाइकिल बाजार में उपलब्ध है जो खूब बिक रही है। मोटरसाइकिल पर सम्मानित 2 लोगों को आराम से यात्रा करने की जगह मिलती है परंतु हमारे देश में एक मोटरसाइकिल पर कम से कम 3 से लेकर 4 लोग बैठते है और यात्रा करते हैं।

मोटरसाइकिल कैसे काम करता है 

अब सवाल उठता है कि मोटरसाइकिल कैसे काम करती है? तो हम आपको बता दें कि मोटरसाइकिल में सबसे मुख्य काम उसका इंजन करता है। मोटरसाइकिल को गति प्रदान करने के लिए और इसकी पावर को बढ़ाने के लिए अलग-अलग प्रकार के इंजन मोटरसाइकिल के डिजाइन के हिसाब से बनाए जाते हैं।

इसके अलावा मोटरसाइकिल को कंट्रोल करने के लिए और इसकी गति को नियंत्रण मेल करने के लिए एक क्लच, गियर और ब्रेक का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपको मोटरसाइकिल चलाना सीखना हैं। 

तो आपको सबसे पहले मोटरसाइकिल में क्लच, गियर एवं ब्रेक को नियंत्रण में करना सीखना होगा यदि आप यह कर लोगे तो मोटरसाइकिल में आप बैलेंस बनाने का काम आसानी से कर लोगे जो लोग साइकिल चलाते हैं। 

उनके लिए मोटरसाइकिल चलाना ज्यादा कठिन नहीं होता है बस शुरुआती समय में उन्हें इससे संबंधित जानकारी लेनी होती है फिर कोई भी आसानी से मोटरसाइकिल चला सकता है। बस इन्हीं तरीकों के जरिए मोटरसाइकिल काम करती हैं।

मोटरसाइकिल का आविष्कार किसने किया 

दुनिया में सबसे पहले मोटरसाइकिल का आविष्कार ‘गोटलिएब डेमलर’ और विल्हेम मेबाक ने वर्ष   1885 में जर्मनी में किया गया था। यह एक ऐसी मोटरसाइकिल थी जो दुनिया की सबसे पहली पेट्रोलियम ईंधन से चलने वाली मोटरसाइकिल बनी थी और इतना ही नहीं जिसका पेटेंट साल 1894 में गोटलिएब डेमलर और विल्हेम मेबैक ने अपने नाम सफलतापूर्वक से करा लिया था। इस मोटरसाइकिल का कुल वजन लगभग 50 किलो का था और यह मोटरसाइकिल 1 घंटे में लगभग 45 किलोमीटर के गति से चलती थी और इस मोटरसाइकिल को 2.5 बीएचपी की पावर के पावर से चलाया जा रहा था।

मोटरसाइकिल का इतिहास 

चलिए अब हम लोग मोटरसाइकिल के कुछ महत्वपूर्ण इतिहास के बारे में जान लेते है ताकि आज की हमारी यह जानकारी पूरी तरीके से पूर्ण हो सके और हमें मोटरसाइकिल के बारे में सभी प्रकार की आवश्यक जानकारी के बारे में पता हो। हमने मोटरसाइकिल के इतिहास संबंधी जानकारी को नीचे पॉइंट के माध्यम से आप को समझाने का प्रयास किया है ताकि आप इसकी 1-1 जानकारी को आसानी से समझ सके तो चलिए इस के इतिहास को जान लेते हैं।

  • वर्ष 1867 में पहली बार मोटरसाइकिल के स्टीम इंजन का आविष्कार मिचोक्स पेर्रेऔस और अर्नेस्ट ने किया था। 19वीं सदी तक कई सारे वैज्ञानिकों ने मोटरसाइकिल को चलाने के लिए स्टीम इंजन का आविष्कार कर लिया था।
  • उस समय के मोटरसाइकिल का आविष्कार और निर्माण कार्य डेमलर और मेबैक ने जर्मनी के छोटे से शहर के नगर बन कांस्टेट में स्थित एक वर्कशॉप में काफी प्रयोगों के बाद  सफलतापूर्वक से प्रारंभ किया था और इसमें सफल भी रहे थे।
  • सबसे पहले बने मोटरसाइकिल को इंसपुर के नाम से जाना जाता था और इतना ही नहीं जिसका मतलब होता है सिंगल ट्रैक।इस मोटरसाइकिल में लगे हुए इंजन का नाम ग्रांफाथेर क्लॉक इंजन था और  इसे सिर्फ पेट्रोल की सहायता से ही चलाया जा सकता था और यह इंजन पेट्रोल से ही अपनी उर्जा प्राप्त करता था और इस इंजन की क्षमता 264 सीसी थी। इस मोटरसाइकिल का डिजाइन लकड़ी से तैयार किया गया था और यह मोटरसाइकिल उस समय 11 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चला करती थी।
  • वर्ष 1894 में हिल्डेब्रांड और वोल्फमूलर के द्वारा ऐसा मोटरसाइकिल बनाया जो आम लोगों को उपयोग में लाने के लिए बनाया गया था। 
  • वर्ष 1884 में आविष्कारक एडवर्ड बटलर ने मोटरसाइकिल के शब्द का उपयोग पूरी दुनिया को करवाना प्रारंभ करवा दिया अर्थात मोटरसाइकल उस समय धीरे-धीरे लोकप्रिय होने लगी और इस चीज को लोग जानने एवं उपयोग करने के लिए जिज्ञासु भी होने लगे थे। 
  • वर्ष 1901 में दुनिया की सबसे जानी मानी मोटर बाइक कंपनी रॉयल इनफील्ड ने इंग्लैंड में 239 सीसी का इंजन उपयोग कर पहली तेज़ रफ़्तार वाली मोटरसाइकिल बनाने का एक बेहतरीन रिकॉर्ड कायम किया और अपना खूब नाम कमाया। इसके अलावा रॉयल एनफील्ड की एनफील्ड बुलेट गाडी आज तक की सबसे लम्बे चलने वाली गाडी हैं।
  • साल 1903 में अमेरिका की हार्ले डैविडसन कंपनी ने सबसे महंगी मुर्सीक्ले का निर्माण किया  और जिस का डिजाइन अन्य बाइक से काफी ज्यादा हटके था और यह भी काफी ज्यादा लोकप्रिय हुई।

निष्कर्ष

अगर आपको MotorCycle Ka Avishkar Kisne Kiya लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना और इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply