Visheshan Kise Kahate Hain – विशेषण किसे कहते हैं

दोस्तों अगर आपको शुद्ध हिंदी सीखना है और हिंदी में एक्सपर्ट बनना है तो आपको सबसे पहले हिंदी ग्रामर के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। जिस प्रकार से इंग्लिश में परफेक्ट होने के लिए हमें इंग्लिश ग्रामर अच्छे से तैयार करना होता है ठीक उसी प्रकार से हिंदी भाषा में एक्सपर्ट होने के लिए हिंदी ग्रामर को अच्छे से पढ़ना जरूरी है और आज हम आपको अपने इस लेख में हिंदी ग्रामर के ही एक अध्याय विशेषण के बारे में बताएंगे और आज आपको इस लेख में Visheshan Kise Kahate Hain के बारे में विस्तार से जानकारी मिलने वाली है। 

विशेषण एक ऐसा अध्याय है जो छात्रों को सबसे ज्यादा कंफ्यूज कर देता है और वे जितना ही इसे समझना चाहते हैं उन्हें इसे समझने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है परंतु हमने इस लेख में विशेषण को आपके समक्ष आसान तरीके से समझाने का प्रयास किया है ताकि आपको विशेषण के प्रकार और विशेषण के बारे में अन्य मुख्य जानकारी के बारे में पता चल सके और इसके लिए आप हमारे आज के इस लेख को शुरुआत से लेकर अंतिम तक ध्यानपूर्वक पढ़ें और लेख में दी गई जानकारी को बिल्कुल भी ना करें नहीं तो आपको विशेषण का यह अध्याय समझ में नहीं आएगा।

विशेषण किसे कहते है

दोस्तों विशेषण एक ऐसा शब्द होता है जो संज्ञा और सर्वनाम के बारे में विशेषता बताता है इसी को हम विशेषण कहते है हम आपको उदाहरण के तौर पर बता दें कि श्याम के अंदर दोष है इसमें राम संज्ञा है और दोष विशेषण हैं।

अगर आपको विशेषण का खुद से परिभाषा बनाना है तो ऐसे में आप बहुत ही आसानी से विशेषण की परिभाषा बना सकते हो बस आपको विशेषण के एग्जांपल को ध्यान से समझना है अगर आप उसके एग्जांपल को समझ लेते हो तो आप बहुत ही आसानी से विशेषण की परिभाषा खुद से बना सकते हो क्योंकि विशेषण हमेशा संज्ञा और सर्वनाम के गुण ही बताते है इसी को हम विशेषण करते हैं।

अगर आपको इस लेख से संबंधित और भी ज्यादा जानकारी चाहिए तो आप हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें ताकि आपको हमारा या लेख जरूर समझ में आ सके और कहीं पर भी आपको भटकने की आवश्यकता बिल्कुल भी ना पड़े।

विशेषण के भेद

जैसा कि दोस्तों अभी-अभी आपने यह जाना की विशेषण किसे कहते है अब हम बात करेंगे कि विशेषण के कितने भेद होते है दोस्तों विशेषण के तो निम्नलिखित पांच भेद होते है जिनके बारे में हमने आपको नीचे उनके नाम बताए हुए है और हमने उन पांचों भेद के बारे में कुछ जानकारी दी हुई है जिसे आप पढ़ कर बहुत ही आसानी से उन पांचों भेद के बारे में समझ सकते हो।

  • गुणवाचक विशेषण
  • संख्यावाचक विशेषण
  • परिणाम वाचक विशेषण
  • व्यक्तिवाचक विशेषण
  • प्रश्न वाचक विशेषण

1. गुणवाचक विशेषण

ऐसे शब्द जिनमें संज्ञा और सर्वनाम के गुण और दोष प्रदर्शित किया जाता है उन्हें हम गुणवाचक विशेषण कहते है जैसे अच्छा, सफेद, मोटा, पतला, काला, गोरा, लंबा और चौड़ा इत्यादि यह सभी गुणवाचक विशेषण के उदाहरण है जिन्हें आप पढ़कर बहुत ही आसानी से समझ सकते हो।

2. संख्यावाचक विशेषण

दोस्तों संख्यावाचक विशेषण हम उसे कहते है जिनमें संज्ञा और सर्वनाम के नाम पर संख्या का गुड बताया जाता है हमारे कहने का यह मतलब है कि ऐसे शब्द जिनमें एक, दो तीन और सात ऐसे अंक आते है उन्हें हम संख्यावाचक विशेषण कहते है जैसे एक 1 से लेकर कोई भी अंक हो इत्यादि ।

दोस्तों संख्यावाचक विशेषण के दो भेद होते है निश्चित संख्यावाचक और अनिश्चित संख्यावाचक निश्चित संख्यावाचक में ऐसे शब्द लें जो कि पूरा हो (अधूरा ना हो) और अनिश्चित संख्यावाचक में ऐसे शब्द में जो कि अधूरा हो जैसे कई और कुछ इत्यादि शब्द यह सब संख्यावाचक विशेषण के लक्षण होते है इस तरीके से आप संख्यावाचक विशेषण की पहचान कर सकते हो।

3. परिणाम वाचक विशेषण

दोस्तों अगर आप कोई ऐसा वस्तु लेते है जिन्हें आप नाप सकते है और तोल सकते है ऐसे ही शब्द को हम परिणाम वाचक विशेषण करते है हमारे कहने का यह मतलब है कि ऐसा माध्यम जिन्हें आप बहुत ही आसानी से तोल और वजन कर सकते हो उन्हीं को हम परिणाम वाचक विशेषण कहते हैं। 

जैसे

  • मुझे 2 किलो आलू चाहिए।
  • 1 किलो मूली चाहिए।
  • 1 लीटर तेल चाहिए।
  • 10 लीटर पानी लाओ।

जैसा कि दोस्तों हमने आपको कुछ ऊपर उदाहरण बताएं हुए है उनमें 2 किलो आलू, 1 किलो मूली, 1 लीटर तेल और 10 लीटर पानी इत्यादि शब्द परिणाम वाचक विशेषण के लक्षण होते है इस तरीके से आप बहुत ही आसानी से परिणाम वाचक विशेषण की पहचान कर सकते हो।

4. व्यक्तिवाचक विशेषण

ऐसे शब्द जिनमें व्यक्ति के बारे में बताया गया हो उन्हें हम व्यक्तिवाचक विशेषण करते हैं।

  • जैसे राम एक सुंदर लड़का हैं।
  • सीता बहुत अच्छा गाना गाती हैं।
  • मोहन हमेशा बदमाशी करता रहता हैं।
  • श्याम हमेशा पढ़ता रहता हैं।

दोस्तों अगर आप यह सोच रहे हो कि व्यक्तिवाचक विशेषण की पहचान कैसे करें तो ऐसे हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इनमें राम सीता मोहन और श्याम कुछ ना कुछ गुण व काम कर रहे है इसीलिए यह व्यक्तिवाचक विशेष आकार आते हैं।

5. प्रश्न वाचक विशेषण

दोस्तों प्रश्न वाचक विशेषण ऐसे होते हैं जिनमें आपको केवल संज्ञा और सर्वनाम की पहचान करनी होती है इन्हीं को हम प्रश्न वाचक विशेषण कहते हैं।

उदाहरण के तौर पर हम आपको यह बता दें कि प्रश्न वाचक विशेषण कि आप पहचान कैसे करते हो जैसे आप कौन हो, तुम क्या कर रहे हो, रमेश क्या खा रहा है इस तरीके से आप प्रश्न वाचक विशेषण की पहचान बहुत ही आसानी से कर सकते हो।

विशेषण के कार्य

जैसा कि दोस्तों आपने अभी तक विशेषण और विशेषण के भेद के बारे में बहुत कुछ जानकारी हासिल की अब हम बात करेंगे कि आखिर विशेषण के क्या क्या कार्य होते हैं हमने आपको नीचे विशेषण के कार्य से संबंधित कुछ जानकारी बताई हुई है जिसे आप पढ़ कर बहुत ही आसानी से समझ सकते हो।

दोस्तों विशेषण का मतलब होता है विशेषता बतलाना हमारे कहने का यह मतलब है कि विशेषण हमेशा किसी भी रूप में छिपा होता है जैसे संज्ञा और सर्वनाम के इन्हीं को हम विशेषण के कार्य करते हैं।

जैसे मोहन और श्याम दोनो बहुत ही अच्छे लड़के है सीता हमेशा राम के साथ मिलकर रहना चाहती है कृष्णा और राधा हमेशा एक दूसरे के साथ झगड़ा करते हैं।

दोस्तों मोहन, श्याम, अच्छे लड़के, सीता, राम, मिलकर रहना, कृष्णा, राधा, झगड़ा, इनमें से संज्ञा और सर्वनाम की विशेषता बताई जा रही है इसीलिए इन्हें विशेषण के कार्य करते हैं।

विशेष्य और विशेषण में संबंध

दोस्तों हमने आपको ऊपर विशेषण की परिभाषा बताया और अब हम बात करेंगे कि विशेष्य और विशेषण के बीच में क्या संबंध होता है ऐसे में हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विशेषण हम उसे कहते है जो संज्ञा और सर्वनाम शब्द की विशेषता बतलाता है उसे हम विशेषण कहते है तथा विशेषण जिस शब्द की विशेषता बतलाता है उसे हम विशेष्य कहते हैं।

संबंध

  • विजय बहादुर लड़का हैं।
  • इस शब्द में विजय की बहादुरी की विशेषता बताई जा रही है बहादुरी विशेष है और विजय विशेषण हैं।
  • पवन एक योद्धा हैं।
  • पवन एक विशेषण है और योद्धा एक विशेष है इस तरीके से बहुत ही आसानी से विशेषण और विशेष्य की बीच के संबंध के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हो।

विशेषण से बनने वाले कुछ वाक्य

दोस्तों अगर आपको विशेषण के बारे में सही सही जानकारी चाहिए तो ऐसे में आप इंटरनेट का सहारा ले सकते हो वैसे तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विशेषण से अनेकों वाक्य बनते हैं जिनके बारे में हमने आपको नीचे बताया हुआ है जिसे आप पढ़ कर बहुत ही आसानी से समझ सकती हो।

वाक्य

  • मैंने बहुत सुंदर पेन देखा।
  • इसमें सुंदर विशेषण है जो पेन की विशेषता बतला रहा हैं।
  • आज मैंने एक बहुत बड़ा पक्षी देखा।
  • दोस्तों इस वाक्य में बहुत बड़ा विशेषण है जो एक पक्षी की विशेषता बता रहा हैं।
  • घोड़ा बहुत तेज दौड़ता हैं।
  • इस वाक्य में घोड़ा की विशेषता बताई जा रही है और तेज दौड़ना एक विशेषण हैं।
  • मोर बहुत ही अच्छा नाचता हैं।
  • इस वाक्य में नाचना विशेषता है और मोर की विशेषता बताई जा रही है।
  • गधे के पास दिमाग नहीं होता।
  • दोस्तों गधा की विशेषता बताई जा रही है और इस वाक्य मैं विशेषण गधे हैं।
  • कुत्ता भोक्ता हैं।
  • दोस्तों भोकना एक विशेषण है और कुत्ते की विशेषता बताई जा रही हैं।
  • दोस्तों हमारे गांव में बिल्ली के रोने पर किसी की मृत्यु होती है ऐसा बताया जाता हैं।
  • इस वाक्य में विशेषता बिल्ली की बताई जा रही है और विशेषण इसमें रोना है दोस्तों आप इस तरीके से बहुत ही आसानी से विशेषण की पहचान कर सकते हो।

हिंदी ग्रामर में विशेषण की महत्व

जैसा कि दोस्तों हमने आपको इस विषय से संबंधित बहुत कुछ जानकारी प्रदान कर चुके हैं अब हम आपको विशेषण के कुछ महत्वपूर्ण बातें बताने वाले हैं जिसे आप पढ़ कर बहुत ही आसानी से समझ सकते हो कि विशेषण के ग्रामर में क्या-क्या काम होते हैं।

  • दोस्तों अगर हिंदी ग्रामर में विशेषण ना हो तो वाक्य बनाना बहुत ही मुश्किल काम हो जाएगा।
  • विशेषण केवल संज्ञा और सर्वनाम की विशेषता बताता है इनके अलावा किसी और की विशेषता विशेषण नहीं बताता।
  • विशेषण की परिभाषा आप खुद से बना सकते हो।
  • आपको विशेषण से संबंधित सभी जानकारी होनी चाहिए तभी जाकर आपको विशेषण का महत्व समझ में आएगा
  • दोस्तों अगर आपके पास संज्ञा और सर्वनाम दोनों हैं परंतु आप इन दोनों को मिलाकर वाक्य बनाना चाहते हो तो ऐसे में वह सही नहीं होगा जब तक आप उन दोनों में विशेषण का इस्तेमाल नहीं करोगे तब तक आप विशेषण नहीं बना पाओगे।

विशेषण के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

यहाँ पर मैंने ऐसे चार सवालों के जवाब दिए है जो की अक्सर लोग विशेषण के बारे में पूछते रहते हैं।

Q. विशेषण के 30 उदाहरण बताइए?

काला, मोटा ,लंबा, चौड़ा, पतला, बारी, सुंदर, टेढ़ा,  मेढ़ा, सीधा, दयालु, कायर, पागल, गोरा, सावला,अच्छा, खट्टा अधूरा, मीठा, स्त्री, पुरुष, सुंदरता, नाचना, खाना और पीना इत्यादि शब्द विशेषण के उदाहरण होते हैं।

Q. 1 लीटर दूध में विशेषण क्या हैं?

दोस्तों 1 लीटर दूध में 1 लीटर विशेषण है और इसमें दूध की विशेषता बताई जा रही है इस वाक्य में परिणाम वाचक विशेषण हैं।

Q. थोड़ी चीनी कौन सा विशेषण है

दोस्तों इस वाक्य में थोड़ी विशेषण हैं और उसमें चीनी की विशेषता बताई जा रही है इस वाक्य में परिणाम वाचक विशेषण हैं।

निष्कर्ष

अगर आपको Visheshan Kise Kahate Hain लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना और इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply