सॉफ्टवेयर क्या हैं – What Is Software In Hindi

आप में से कई सारे लोग अलग-अलग प्रकार के मोबाइल में एप्लीकेशन और अपने कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करते है परंतु क्या आप सभी लोगों को What is software in Hindi के बारे में पता है। वैसे तो हम अपने और एक इलेक्ट्रॉनिक चीज को कंट्रोल करने के लिए या फिर उसे चलाने के लिए किसी ना किसी प्रकार के सॉफ्टवेयर की सहायता ही लेते है परंतु हमें पता ही नहीं होता है कि क्या यह सॉफ्टवेयर के माध्यम से चल रहा है या फिर सिर्फ ऐसे ही चल रहा हैं।

हर एक छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी चीज को चलाने के लिए और उसे कंट्रोल करने के लिए कोई न कोई सॉफ्टवेयर आवश्यक काम करता है। अभी आप अपने मोबाइल के माध्यम से अगर इस आर्टिकल को पढ़ रहे है तो आप अपने ऑपरेटिंग सिस्टम और वेब ब्राउज़र के सॉफ्टवेयर के जरिए इसे पढ़ पा रहे हैं।

अगर आप अपने मोबाइल फोन में कोई एप्लीकेशन यूज करते है तो वह भी एक सॉफ्टवेयर ही होता है परंतु किसी को इतनी विस्तार से जानकारी पता ही नहीं होती है। कि आखिर सॉफ्टवेयर क्या होता है? आज हम आपको इस आर्टिकल में सॉफ्टवेयर से संबंधित सभी प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले है और इतना ही नहीं सॉफ्टवेयर बनाने की प्रोसेस क्या है? के साथ साथ हम आपको सॉफ्टवेयर बनाने के लिए कोर्स कहां कहां से करें? इस विषय पर भी विस्तार से जानकारी इसी आर्टिकल में आपको प्रदान करने वाले हैं।

कुल मिलाकर आज का आर्टिकल आपके लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होने वाला है और आपको इस आर्टिकल में सॉफ्टवेयर से संबंधित सभी प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारियां मिलने वाले है अर्थात आपको इस आर्टिकल को शुरू से लेकर अंतिम तक पढ़ना ही होगा।

सॉफ्टवेयर क्या हैं – What Is Software In Hindi

बहुत सारे प्रोग्राम का एक संग्रह होता है। जो किसी भी डिवाइस, एप्लीकेशन, ऑपरेटिंग सिस्टम और आवश्यकतानुसार चीज को चलाने के लिए या उसे कंट्रोल करने के लिए बनाया जाता है। आप अपने कंप्यूटर में यहां पर मोबाइल में जितने भी ट्रांसफर कंप्लीट करते है वह सभी सॉफ्टवेयर के जरिए ही पुरे हो पाते हैं।

सपोज अगर आपको रास्ता पता करने के लिए जीपीएस का इस्तेमाल करना है और इसके लिए गूगल मैप एप्लीकेशन काम करता है तो गूगल मैप एक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर है जो आपको रास्ता बताने में आपकी हेल्प करता है इसे इसी काम के लिए कई सारे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के जरिए डिजाइन किया गया हैं।

अगर आप कंप्यूटर पर इस आर्टिकल को पढ़ रहे है तो यहां तक आने के लिए अपने कई सारे टास्क किए होंगे और उन सभी टास्क को पूरा करने में कई सारे  सॉफ्टवेयर अपना अपना काम किए होंगे इन सभी सॉफ्टवेयर को प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के माध्यम से हर एक उद्देश्य के लिए डिवेलप किया जाता हैं।

कोई भी सॉफ्टवेयर आसानी से नहीं बनता है उसको बनाने के लिए हमें अलग-अलग प्रकार की कई सारी लैंग्वेज का सहारा लेना होता है और वे सभी लैंग्वेज प्रोग्राम की लैंग्वेज होती है जो हमारे समझ से बाहर होती है। अब चलिए आगे हम नीचे सॉफ्टवेयर की परिभाषा को समझने का प्रयास करते हैं।

सॉफ्टवेयर के प्रकार

अब आप  सोच रहे होंगे किक्या सॉफ्टवेयर के भी प्रकार हो सकते है? जी हां बिल्कुल सॉफ्टवेयर के प्रकार होते है।  अलग-अलग उद्देश्यों के लिए अलग-अलग सॉफ्टवेयर डेवलपर के द्वारा डिवेलप किया जाता है। परंतु मुख्यतः सॉफ्टवेयर कुल मिलाकर तीन प्रकार के होते है। जिसकी जानकारी हमने नीचे विस्तार पूर्वक से बताई हुई हैं।

  • सिस्टम सॉफ्टवेयर
  • एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर
  • यूटिलिटी सॉफ्टवेयर

सिस्टम सॉफ्टवेयर

सिस्टम सॉफ्टवेयर केवल पीसी, कंप्यूटर और डेस्कटॉप आदि के लिए डिजाइन किए जाते है। इसके अंतर्गत आपके सिस्टम के ऑपरेटिंग सिस्टम को चलाने से लेकर आपके सिस्टम के अंदर प्रत्येक चीज को कंट्रोल और सारे फीचर को बखूबी चलाने के लिए सिस्टम में डाइवोर्स होते है वह सभी सिस्टम सॉफ्टवेयर के अंतर्गत आते है। इनको केवल कंप्यूटर जैसे प्रोस्पेक्टिव डिवाइस के लिए ही स्पेशल रूप से डिजाइन किया जाता हैं।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर

आपके कंप्यूटर या फिर मोबाइल फोन में अलग-अलग प्रकार के एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर दिए गए होते है इनका कार्य केवल एक उद्देश्य को पूरा करने के लिए होता है। उदाहरण के रूप में अगर आपके पीसी में फिर मोबाइल फोन में कहीं से आपको कुछ डाउनलोड करना है तो आपको या तो क्रोम ब्राउज़र में जाना होगा या फिर आपको अपने फोन के गूगल प्ले स्टोर में जाना होगा। अब तो पीसी में माइक्रोसॉफ्ट स्टोर भी उपलब्ध है जहां पर हम जाकर अपने अलग-अलग प्रकार के एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर सकते है। अब आपको जो माइक्रोसॉफ्ट स्टोर या फिर गूगल प्ले स्टोर दिया जा रहा है वह केवल सॉफ्टवेयर या फिर एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए ही दिया जा रहा है तो यह एक डाउनलोडिंग सॉफ्टवेयर हुआ और यह एक एप्लीकेशन के फॉर्मेट में है तो एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कहलाएगा।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर उत्पादकता उपकरण के रूप में जाने जाते है। जिसके अंतर्गत आपको डाटा प्रबंधन और विशिष्ट कार्यों को पूरा करने के लिए सुविधाएं दी जाती है। अगर इसे उदाहरण के रूप में समझे तो वर्ड प्रोसेसिंग, स्प्रेडशीट प्रोग्राम, डेटाबेस प्रबंधन और फोटो एडिटिंग सॉफ्टवेयर यह सभी यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के अंतर्गत आते हैं।

सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज किसे कहते हैं

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज एक ऐसी भाषा होती है जो केवल कंप्यूटर के समझ में आती है या फिर जो प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखा हुआ है उसे यह लैंग्वेज समझ में आ सकती है। कंप्यूटर या फिर कोई अन्य डिवाइस मशीन होता है इनको इंसानी भाषा समझ में नहीं आती है इनके लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बनाई गई है जो केवल कंप्यूटर या फिर इसी प्रकार के अन्य डिवाइस समझ सकते हैं।

जब हमें कोई एप्लीकेशन या फिर सॉफ्टवेयर डेवलप करना होता है तब हम कंप्यूटर के सहायता से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का कमांड देकर और कुछ अन्य सॉफ्टवेयर की हेल्प से कोई भी अपने आवश्यकता अनुसार सॉफ्टवेयर या फिर एप्लीकेशन डेवलप कर सकते हैं।

अब आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कौन कौन सी होती है? हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि सॉफ्टवेयर बनाने के लिए या फिर एप्लीकेशन बनाने के लिए कई सारी लैंग्वेज का सहारा लिया जाता है और उन सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखने के लिए आपको कई सारे  कोर्सेज और इंस्टीट्यूट ज्वाइन करने होते हैं।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कितने प्रकार की होती हैं

वैसे आप में से कई सारे लोगों ने, जावा, सी प्लस प्लस और पाइथन जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के नाम या फिर इनके बारे में जरूर ही सुना होगा। इन्हीं सभी लैंग्वेज के सहारे कोई भी सॉफ्टवेयर या फिर एप्लीकेशन डिवेलप किया जाता है। सॉफ्टवेयर डेवलप करने के लिए यह सभी लैंग्वेज बेस का काम करती है। मुख्यतः 10 प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होती है जिनका नाम नीचे दिया गया हैं।

  1. Python Programming Language
  2. Java Programming Language
  3. JavaScript/Node.Js Programming Language
  4. C/C++ Programming Language
  5. PHP Programming Language
  6. Google Go Programming Language
  7. Swift Programming Language
  8. C# (C-Sharp) Programming Language
  9. Scala Programming Language
  10.  R Programming Language

खुद का सॉफ्टवेयर कैसे बनाएं

सॉफ्टवेयर बनाने के लिए आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आना बहुत जरूरी है क्योंकि बिना प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के आप कोई भी सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन डेवलपर नहीं कर सकते है यह बहुत ही कठिन कार्य होता है। सॉफ्टवेयर डेवलप करने वाले डेवलपर से भी कई सारी गलतियां होती है तब जाकर वे कोई सॉफ्टवेयर या फिर एप्लीकेशन कई सारे एक्सपेरिमेंट के बाद डिवेलप कर पाते हैं।

सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के साथ-साथ आपको धैर्य रखने की भी जरूरत होती है तब जाकर कहीं आप  पेशेवर सॉफ्टवेयर डेवलपर बन पाते है। लगभग किसी के लिए भी सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का विशेषज्ञ बनना आसान नहीं होता परंतु असंभव नहीं है अगर आप चाहें तो दो-चार जरूरी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में तो सीख ही सकते है और उसमें विशेषज्ञ बन सकते हैं।

सी प्लस प्लस और पाइथन जैसे बेसिक लैंग्वेज को सीखने के बाद और कुछ कंप्यूटर कोडिंग के बारे में जानने के बाद आप थोड़े बहुत बेसिक सॉफ्टवेयर या फिर एप्लीकेशन डिजाइन कर सकते है। आज ऑनलाइन भी कई सारे ऐसे प्लेटफार्म है जहां पर कुछ बेसिक्स प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का कोर्स ऑनलाइन करवाया जाता है आप चाहे तो उनसे भी घर बैठे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ऑनलाइन सीखते हैं।

फ्री में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कहां से सीखे

आज के समय में हमारे भारत देश में कई सारी ऐसी वेबसाइट में मौजूद है जो बिल्कुल फ्री में ऑनलाइन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सिखाने का काम कर रही है। यहां पर हम आपको कुछ वेबसाइटों के नाम बताने वाले है जहां पर आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बिल्कुल फ्री में ऑनलाइन जाकर सीख सकते हैं।

  • Whitehatjr.com
  • Youtube.com
  • Codeacademy.com
  • W3schools.com
  • Github.com
  • Freecodecamp.org
  • Codewars.com
  • Udemy.com

ध्यान दें: इन सभी लैंग्वेज को सीखने के बाद ही आप किसी भी प्रकार का सॉफ्टवेयर या फिर एप्लीकेशन डेवलप कर पाते है इनके अलावा भी कई सारी और एडवांस लेवल की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज होती है। आज हमारे देश में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखने के लिए कई सारे कोर्स और इंस्टीट्यूट उपलब्ध है। उनको ज्वाइन करके आप अपने आवश्यकतानुसार कोई भी लैंग्वेज आसानी से सीख सकते है और अपना कैरियर उसमें बना सकते हैं।

सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में करियर

दोस्तों अगर आप सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन डेवलपमेंट में अपना करियर बनाना चाहते है तो आज के समय में आपका सोचना बिल्कुल सही है। आजकल सॉफ्टवेयर डेवलपर की मांग बहुत ही ज्यादा है परंतु हमारे देश में सॉफ्टवेयर डेवलपर की बहुत ही ज्यादा कमी है क्योंकि इसमें लोग अपना इंटरेस्ट नहीं लेते हैं।

सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट करना आसान नहीं होता और ना ही किसी को यह आसानी से सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आती है इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ती है और कई सारे कोर्सेज और अलग-अलग प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में सीखना होता हैं।

मगर जब आप अच्छे तरीके से सॉफ्टवेयर डेवलपर बन जाते है और आप एक प्रोफेशनल रूप में काम करने लगते है तब आप सिर्फ सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट से हर महीने आराम से ₹50000 से लेकर ₹100000 से भी अधिक की इनकम कर सकते हैं।

कुल मिलाकर सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में आपका कैरियर बहुत ही सुनहरा है और आप आज से ही सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के सारे कोर्स कर सकते है और आप इस क्षेत्र में अपना करियर बना सकते है और सफल भी हो सकते हैं।

निष्कर्ष

अगर आपको सॉफ्टवेयर क्या हैं – What Is Software In Hindi लेख हेल्पफुल लगा है तो फिर आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना ताकि वह भी सॉफ्टवेयर से संबंधित अच्छी जानकारी प्राप्त कर सके। इसके अलावा अगर आपको कोई भी जानकरी इस लेख से संबंधित चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Junaid Bashir

Hi friends!! मेरा नाम Junaid Bashir है और मैं इस ब्लॉग का मालिक हूँ। इसके साथ-साथ मैंने इस ब्लॉग इसलिए बनाया है। क्योंकि मुझे लोगों की मदद करना बहुत ही अच्छा लगता है और अगर आप मेरे बारे में विस्तार से जानना चाहते है तो फिर उसके लिए आप इस ब्लॉग का About Us पेज पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply