Rational Numbers In Hindi – रैशनल नंबर्स क्या होते है

अगर आप गणित की पढ़ाई करते है तो आपको रेशनल नंबर के बारे में पता होना आवश्यक है। Rational numbers in Hindi में परिमय सांख्य कहा जाता है और इसके केवल गणित में ही नहीं कंप्यूटर में भी इस संख्या की अहम भूमिका है जब आपको किसी ऐसी जगह नौकरी करेंगे जहां आपको रिसर्च करना पड़ेगा तब आपको इस संख्या का और महत्व पता चलेगा। 

अगर आपको रेशनल नंबर समझने में समस्या होती है तो आज इस लेख में हम आपको Rational numbers in Hindi के बारे में विस्तार से बताएंगे। 

Rational Numbers In Hindi

आपको बता दें की रेशनल नंबर को हिंदी में परिमेय संख्या कहा जाता है और परिमेय संख्या हम उस संख्या को कहते है जिसे हम भीन के रूप में लिख सकते हैं। 

आसान भाषा में, परिमाय संख्या वो संख्या है जिसे P/Q के रूप में लिखा जाता है और वहां Q कभी सुन्य नहीं हो सकता। 

एक भीन में P यानी फ्रैक्शन के ऊपर वाले अंक को न्यूमरेटर कहा जाता है और Q यानी फ्रैक्शन के नीचे वाले अंक को डिनॉमिनेट कहा जाता है। और परिमय संख्या वो संख्या है जहा Q कभी शून्य ना हो। 

उदाहरण – सभी पूर्णांक या प्राकृत संख्या परिमेय संख्या कहलाती है, ⅔, 5/4, ये सब परिमय सांख्य के उदाहरण हैं। 

Rational Numbers के प्रकार

विभिन्न प्रकार के रेशनल नंबर होते है उन सभी प्रकार के बारे में विचार विस्तार पूर्वक बताया गया है। रेशनल नंबर कुल चार प्रकार के होते हैं। 

1. इंटीरियर (Integer)

ये वो रेशनल नंबर है जिसमे सभी प्रकार की पॉजिटिव और नेगेटिव संख्या आती है। इस श्रेणी में सभी प्राकृत संख्या और नेगेटिव संख्या आती हैं।

ऐसा इस वजह से है क्योंकि जितनी भी संख्या है सब 1 से विभाजित होती है और वह रेशनल नंबर के परिभाषा को सटीकता से पालन करती हैं।

उदाहरण –  2, 7, 896, – 5, आदि

2. भिन्न संख्या (fractions)

यह भी परिमेय संख्या का उदाहरण है क्योंकि भिन्न संख्या में ऐसा कोई भी संख्या नहीं आता जिसमें नीचे शून्य हो और इस वजह से सभी प्रकार के भीन अपरिमेय संख्या के परिभाषा को सटीकता से पालन करते हैं। 

उदाहरण – ⅘, 8/3, ⅚, ⅔, 

3. टर्मिनेटिंग डेसिमल

वह सभी अंक जो बिंदु में लिखे जाते है वो परिमय संख्या कहलाती है। जब भी बिंदु के बाद आप कोई अंक लिखते है तो वह टर्मिनेटिंग डेसिमल का हिस्सा होता है। आसान भाषा में एक संख्या जो बिंदु में लिखी गई है वह टर्मिनेटिंग डेसिमल कही जाती है और वह परिमेय संख्या का हिस्सा हैं। 

उदाहरण – 2.564789, 6.874532…, 

4. नॉन टर्मिनेटिंग डेसिमल

जब आप किसी संख्या को बिंदु में लिखेंगे या डेसिमल में लिखेंगे तो ऐसा बहुत सारा अंक मिलता है जहां डेसिमल के बाद संख्या बार-बार रिपीट होने लगती है ऐसे संख्या को नॉन टर्मिनेटिंग डेसिमल कहा जाता है। वह सभी संख्या जिसे हम बिंदु में या डेसिमल में लिखते हैं और डेसीमल के बाद एक ही संख्या बार-बार रिपीट होने लगती है यह भी परिमेय संख्या का एक प्रकार होता हैं। 

उदाहरण – 2.33333…., 4.5656565656…., 1.22222…., 

Rational Numbers और Irrational Number में क्या अंतर हैं

परिमेय संख्या और अपरिमेय संख्या में क्या अंतर है यह विस्तारपूर्वक नीचे बताया गया है सबसे पहले हम आपको परिमेय संख्या के बारे में बता रहे है उसके बाद आपको अपरिमेय संख्या के बारे में बताया जा रहा हैं। 

परिमेय संख्या

  • वह सारी संख्या जिसे हम अनुपात में व्यक्त कर सकते हैं उसे परिमेय संख्या कहते हैं। 
  • परिमेय संख्या में वह संख्या शामिल होती है जो finite होती है या आवर्ती होती हैं। 
  • परिमेय संख्या में वह संख्या आती है जिनका हम पूर्ण वर्ग पता कर सकते हैं जैसे 4, 25, 64, आदि। 
  • परिमेय संख्या में मौजूद हर संख्या को हम भिंड में लिख सकते हैं और उसके बिन पूर्णांक होते हैं अर्थात न्यूमैरेटर और डिनॉमिनेटर जीरो नहीं हो सकता। 
  • उदाहरण – 4, 25, ⅚, 2.75, 

अपरिमेय संख्या

  • वह सभी संख्या जिसे हम अनुपात के रूप में व्यक्त नहीं कर सकते उसे हम अपरिमेय संख्या कहते हैं। 
  • अपरिमेय संख्या में वह संख्या शामिल होती है जो non finite होती है और आवर्ती या बार-बार आने वाली नहीं होती हैं। 
  • अपरिमेय संख्या में वह संख्या आती है जिसका हम पूर्ण वर्ग पता नहीं कर सकते। 
  • अपरिमेय संख्या को हम भिन्न के रूप में नहीं लिख सकते। 
  • उदाहरण – √2, √5, √11, 

Rational के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

यहाँ पर मैंने ऐसे पांच सवालों के जवाब दिए है जो की अक्सर लोग रैशनल के बारे में पूछते रहते हैं।

Q. परिमेय संख्या किसे कहते हैं?

वह संख्या जिसे हम भिन्न के रूप में लिखते है और भिन्न का अंश कभी 0 (शून्य) नहीं हो सकता। 

Q. क्या डेसिमल में लिखी जाने वाली संख्या परिमेय संख्या होती हैं?

हां डेसिमल में लिखी जाने वाली हर संख्या परिमेय संख्या होती हैं। 

Q. टर्मिनेटिंग डेसिमल किसे कहते हैं?

जब आप किसी संख्या को बिंदु में या डेसिमल में लिखते है और उसके डेसिमल के बाद कोई भी संख्या रिपीट नहीं होती है तो उसे टर्मिनेटिंग डेसिमल कहते हैं। 

Q. नॉन टर्मिनेटिंग डेसिमल किसे कहते हैं?

जब आप किसी संख्या को डेसीमल में या बिंदु में लिखते हैं और बिंदु के बाद एक ही संख्या बार-बार रिपीट होने लगती है तो हम इसे नन टर्मिनेटिंग डेसिमल कहते हैं। 

निष्कर्ष

अगर आपको Rational Numbers In Hindi लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना। इसके अलावा अगर आपको इस लेख से सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप निचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply