साइंटिस्ट कैसे बने – जानिए योग्यता, परीक्षा, सैलरी के बारे में

बहुत कम लोग जानते है कि देश के विकास में वैज्ञानिकों का अहम योगदान होता है। एक साइंटिस्ट विभिन्न प्रकार के रिसर्च करता है जिसमे देश का कृषि, रक्षा और रोजमर्रा के जीवन में इस्तेमाल करने वाली चीजें भी आती है। अगर आप Scientist Kaise Bane के बारे में जानकारी पाना चाहते है और इस बात को समझना चाहते है कि साइंटिस्ट कौन होता है। लोग उस पद तक कैसे पहुंचा जाता है तो इस लेख में हम ने विस्तारपूर्वक जानकारी दी हैं। 

इससे पहले कि हम आपको साइंटिस्ट कैसे बने की प्रक्रिया को बताएं यह आवश्यक है कि आप समझ ले कि विश्व भर में 50 तरह के विज्ञानिक होते है और हर विज्ञानिक का काम उसके क्षेत्र के अनुसार विभिन्न होता है। मगर कुल मिलाकर हम यह कह सकते है कि एक वैज्ञानिक या साइंटिस्ट का काम, रिसर्च करना या अपने क्षेत्र के चीजों को और उच्च स्तर पर ले जाना होता हैं। 

साइंटिस्ट कौन होता है 

मानव सभ्यता को आज जिस स्थान पर हम देख रहे है यहां तक पहुंचाने में वैज्ञानिकों का काफी अहम योगदान रहा है आप यूं समझ सकते है कि हर नई चीज की खोज या किसी जीज को उसके नवीनता तक पहुंचाने में वैज्ञानिकों का काफी अहम योगदान होता है। इस वजह से हम यह कह सकते है कि हर वह व्यक्ति जो अपने क्षेत्र में किसी प्रकार का रिसर्च कर रहा है या नई चीजों के बारे में सीख रहा है तो उसे हम साइंटिस्ट कह सकते हैं। 

मगर एक सीमित परिभाषा के अनुसार कोई व्यक्ति जब वैज्ञानिक प्रक्रिया करते हुए किसी नई चीज की खोज या रिसर्च करता है तो उसे वैज्ञानिक कहते हैं। 

साइंटिस्ट क्या काम करते है 

हमारे रोजमर्रा के जीवन को और आसान बनाने के लिए वह अपने क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के रिसर्च करता है ताकि वह कार्य सरलता के लिए नई मशीन का इजाद कर सकते या बनी हुई उपकरणों में कोई नवीनता ला सके। इसके अलावा साइंटिस्ट रिसर्च करता है ताकि नई चीजों के बारे में पता चल सके और हम हर प्रकार के क्षेत्र में आगे बढ़ सके। 

चाहे हम कोई भी कार्य कर रहे हो हम अपने कार्य को सरलता से कर सके और उसमें नई जानकारियों को जान सकें इसकी बहुत आवश्यकता होती है इस वजह से वैज्ञानिक रक्षा क्षेत्र में, कृषि क्षेत्र में, और गाड़ी से लेकर घर बनाने की रोजमर्रा के सभी चीजों पर रिसर्च करने का कार्य करता हैं। 

साइंटिस्ट कैसे बने

अगर आप अपने कार्य के प्रति काफी सजग है और पूरी लगन के साथ अपना कार्य करते है तो आपको साइंटिस्ट के पद के लिए आवेदन करना चाहिए और इसकी क्या विस्तार पूर्वक प्रक्रिया होती है इसके बारे में नीचे बताया गया है उसे ध्यानपूर्वक पढ़ें – 

Step 1– अच्छे से 10वीं और 12वीं की परीक्षा पास करें

वैज्ञानिक बनने के लिए सबसे पहला शब्द ही आपको इस के पथ पर चलने का रास्ता दिखाता है जो शब्द है “विज्ञान”। अर्थात अगर आप विज्ञानिक बनना चाहते है तो दसवीं की परीक्षा अच्छे से पास करने के बाद 12वीं में विज्ञान का चयन करें जिसमें आपके पास मैथ सब्जेक्ट होना चाहिए। 

जब आप इस विषय का चयन करें तो पूरे ध्यान से इन सभी विषयों के बारे में पढ़ा था आपकी पढ़ाई पूरी हो जाएगी और आपके अच्छे अंक आएंगे तब आगे की प्रक्रिया निर्देशानुसार पालन करें। 

Step 2– ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन अपने चयनित विषय से करें

जवाब 10वीं और 12वीं की परीक्षा अच्छे अंक से पास कर लेंगे तो भारत के कोई नामी कॉलेज में अपने ग्रेजुएशन की तैयारी करें। हमने नामी कॉलेज इस वजह से कहा था कि आपको अपनी पढ़ाई के बाद बहुत सारे प्रयोगशाला और कंपनियों में काम करने के विकल्प आसानी से मिले। 

ग्रेजुएशन करने के लिए आप किसी भी विषय का चयन कर सकते है जिस विषय में आपको गुरुजी हो किसी एक विषय का चयन करें और उसमें अपने विज्ञान से ग्रेजुएशन को पूरा करें। उसके बाद आप पोस्ट ग्रेजुएशन और पीएचडी के बारे में भी विचार कर सकते हैं। 

Step 3– विभिन्न प्रयोगशाला में इंटर्नशिप के लिए आवेदन करें

जब आप अपना ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा कर लेंगे तो आपके कॉलेज में विभिन्न प्रकार के प्रयोगशाला और कंपनियां आएंगी जिन्हें वैज्ञानिकों की आवश्यकता होगी उनके लिए आप आवेदन करें और इंटरव्यू को पास करें। 

जब आप किसी अच्छे कॉलेज से अपनी पढ़ाई पूरी करते है तो आपको बहुत सारी कंपनियां मिलती है जो अपने कंपनी में रिसर्च करने के लिए एक अच्छे वैज्ञानिक की तलाश करते है आपको उनके इंटरव्यू को पास करके यह साबित करना है कि आप उनके कंपनी के लिए एक अच्छे वैज्ञानिक बन सकते है और उनके प्रोडक्ट के नवीनता पर रिसर्च कर सकते हैं। 

इसके अलावा कृषि, मट्टी, आसमान, गाड़ी, रक्षा जैसे विभिन्न छेत्रो की प्रयोगशाला में होती है जिसमे विज्ञानिक के पद के लिए आप आवेदन कर सकते हैं। 

Step 4– जब आप का इंटर्नशिप पूरा हो जाएगा तब आप उस कंपनी में वैज्ञानिक के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। 

ऐसा नहीं है कि आप जिसके साथ इंटर्नशिप कर रहे है केवल उस प्रयोगशाला या कंपनी के लिए आप विज्ञानिक के पद पर आवेदन कर सकते है मगर यह प्रक्रिया थोड़ी आसान होती है इस वजह से आपको सुझाव दिया जाता है कि आप अपने पोस्ट ग्रेजुएशन के दौरान या अपनी पढ़ाई पूरी करने के दौरान जिस कंपनी के साथ है इंटर्नशिप करें उस कंपनी या प्रयोगशाला में वैज्ञानिक के पद पर आवेदन जरूर करें। 

इसके अलावा भारत में और भी विभिन्न प्रकार के प्रयोगशाला आए है जिसमें आपने सबसे प्रचलित ISRO का नाम सुना होगा आपको शायद पता ना हो मगर भारत में कृषि क्षेत्र के लिए प्रयोगशाला, मोबाइल और इंटरनेट के लिए प्रयोगशाला, और ऐसे लगभग 50 से ज्यादा तरह के प्रयोग से लाए है जिसके लिए आप विज्ञानिक के पद पर आवेदन कर सकते हैं। 

साइंटिस्ट के प्रकार

इस लेख को शुरू करने से पहले हमने आपसे कहा था कि हमारे बीच विभिन्न प्रकार के विज्ञानिक रहते है लगभग 50 से ज्यादा विभिन्न क्षेत्रों में रिसर्च और नवीनता का कार्य चलता है इस वजह से हमारे समक्ष बहुत सारे वैज्ञानिकों के प्रकार आते हैं। 

हमने आपको नीचे कुछ साइंटिस्ट ओके प्रकार के बारे में बताया है उन्होंने सभी प्रकारों को ध्यानपूर्वक पढ़ें – 

  • जेनेटिसिस्ट
  • जियोलॉजिस्ट
  • जियोग्राफर
  • मरीन बायोलॉजिस्ट
  • माइक्रोबायोलॉजिस्ट
  • प्लेनटॉलोजिस्ट
  • फिजिसिस्ट
  • सीस्मोलॉजिस्ट
  • जूलॉजिस्ट
  • एग्रोनॉमिस्ट
  • एस्ट्रोनॉमर
  • बॉटनिस्ट
  • केमिस्ट
  • साइटोलॉजिस्ट
  • इकोलॉजिस्ट
  • एपिडेमियोलॉजिस्ट
  • एथोलोजिस्ट

साइंटिस्ट के और भी प्रकार होते है मगर हमने आपको कुछ प्रकार के बारे में बताया हैं। 

यह भी पढ़ें

साइंटिस्ट बनने के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

किसी भी नौकरी को पाने से पहले हमारे मन में सबसे पहले यह सवाल उठता है कि उस नौकरी को पाने के लिए सबसे न्यूनतम योग्यता क्या है। नीचे हमने आपको कुछ जानकारी दी है जिसे पढ़कर आ गया समझ सकते है कि एक वैज्ञानिक बनने के लिए आपकी सबसे न्यूनतम योग्यता क्या होनी चाहिए। 

1. शिक्षण योग्यता

साइंटिस्ट बनने के लिए आपकी शिक्षण योग्यता काम से काम विज्ञान में पोस्ट ग्रेजुएशन तक की होनी चाहिए। किसी प्रोयोगशाला या वैज्ञानिक संस्था में काम करने के लिए आपको पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करनी होगी और उसके बाद किसी प्रयोगशाला में आवेदन करना होगा किसी खास पद के लिए आवश्यकता अनुसार पीएचडी करने की जरूरत पड़ सकती हैं। 

2. उम्र सीमा

अगर आप विज्ञानिक बनना चाहते है तो आपको बता दें कि इसके लिए किसी भी प्रकार की उम्र सीमा तय नहीं की कही है आप किसी भी उम्र में विज्ञानिक बनने के लिए आवेदन कर सकते है। पर न्यूनतम उम्र सीमा 23 बरस की रखी गई हैं।

साइंटिस्ट को तैयारी कैसे करें 

बहुत सारे लोगों का सपना होता है कि वह वैज्ञानिक के तौर पर नौकरी करें अगर आपका भी ऐसा सपना है तो इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी साइंटिस्ट बनने के लिए आपको किस प्रकार तैयारी करनी चाहिए उसके बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी देने जा रहे हैं। 

साइंटिस्ट बनने की तैयारी दसवीं कक्षा से शुरू हो जाती है क्योंकि दसवीं पास करने के बाद आपको अपने विषय का चयन करना होता है और वैज्ञानिक बनने के लिए आपको विज्ञान विषय चुनना चाहिए। आपको बता दें कि 12 में आपको फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स या फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी वाले विषय को चुनना चाहिए। 

उसके बाद विभिन्न प्रयोगशाला या सरकारी एवं निजी कंपनियों द्वारा वैज्ञानिकों के पद के लिए नौकरी निकलती है उसके क्वेश्चन पेपर आपको ऑनलाइन मिल जाएंगे जिसकी तैयार ही आपको अपने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के दौरान करते रहनी हैं। 

उसके बाद कैंपस सिलेक्शन के जरिए या सामने से किसी प्रयोगशाला में आवेदन कर के आप विज्ञानिक के पद पर नौकरी पा सकते है। आप अपने घर में बैठकर रिसर्च कर सकते है अगर आपका रिसर्च सही रहा तो इसके बदले आपको पैसे मिलेंगे मगर जब आप किसी प्रयोगशाला के अंतर्गत वैज्ञानिक बनकर कार्य करना चाहते है तो इसके लिए आपको लिखित परीक्षा पास करनी होती है जिसके बारे में ऑनलाइन संस्था के अधिकारिक वेबसाइट पर पता चल जाएगा। 

यह भी पढ़ें

इसरो में साइंटिस्ट कैसे बने

ISRO भारत का एक मुख्य प्रयोगशाला है जहा अंतरिक्ष और विभिन छेत्रो के पर रिसर्च का कार्य किया जाता है। भारत में होने वाले सभी प्रकार के विकास में ISRO का काफी अहम योगदान रहता है। बहुत सारे लोगों का सपना होता है की वो इसरो में विज्ञानिक बने और भारत के विकास में योगदान दें, अगर आप भी ISRO का विज्ञानिक बनना चाहते है तो नीचे दी गई जानकारी को ध्यान पूर्वक पढ़े।

इसरो में वैज्ञानिक के पद पर आप की नियुक्ति हो इसके लिए आवश्यक है कि आप IIST में नामांकन करवाएं। ऐसा नहीं है कि आप IIST में नामांकन करवाए बिना विज्ञानिक नहीं बन सकते मगर जब आप इस संस्था से अपनी पढ़ाई पूरी करते है तो इशारों में वैज्ञानिक बनने का पथ आसान हो जाता हैं। 

IIST खास संस्था है जहां बच्चों को वैज्ञानिक बनने की पढ़ाई करवाई जाती है आपको इस संस्था में नामांकन करवाने के लिए 12वीं में मैथ, फिजिक्स, केमिस्ट्री से पढ़ाई को पूरा करना होगा। जब आप 12वीं में अच्छे अंक लाकर इस संस्था के साथ जुड़ेंगे तो आपको अपनी पूरी पढ़ाई के दौरान 7.5 CGPA मेंटेन रखना होगा। अगर आप इस संस्था में 7.5 CGPA मार्क्स मेंटेन रखते है तो आपको शुरू में सीधे विज्ञानिक के पद पर नौकरी दे दी जाएगी। इसके अलावा IIT या NIT जैसी संस्थानों से पढ़ने वाले विद्यार्थी को भी इसरो में सीधे वैज्ञानिक बनने का मौका दिया जाता हैं। 

इसरो में वैज्ञानिक बनने के लिए कौन सी परीक्षा पास करनी होती है

हम आपको बताने जा रहे है कि अगर आप ऊपर बताए गए संस्थानों से पढ़ाई नहीं कर रहे है तो किस प्रकार आप इसरो में विज्ञानिक बन सकते है। अगर आप बताई गई संस्था से पढ़ाई नहीं किए है तो ऐसी परिस्थिति में आपको ISRO के द्वारा आयोजित ICRB की परीक्षा पास करनी होगी। 

इस परीक्षा को तीन श्रेणी में आयोजित करवाया जाता है – इलेक्ट्रिकल , मैकेनिकल और कंप्यूटर। इन क्षेत्रों में आपको बैचलर ऑफ साइंस, बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी या बैचलर ऑफ इंजीनरिंग जैसे पढ़ाई को पूरा करने के बाद परीक्षा में बैठ सकते हैं। 

इसरो के द्वारा आयोजित करवाई जाने वाली इस परीक्षा में आपको कम से कम 65% से अधिक किया सीजीपीए के अनुसार 6.8 CGPA से ज्यादा अंक प्राप्त करना है ताकि आप इसरो में सीधे विज्ञानिक के पद पर नौकरी कर सकें। 

साइंटिस्ट की कितनी सैलरी होती है

अगर आप यह सोच रहे है कि आप विज्ञानिक बनकर कितना पैसा कमाएंगे तो आपको बता दें यह आमदनी पूरी तरह से आपकी योग्यता अनुभव और किस संस्था के साथ आप जुड़े है उस पर निर्भर करती है। 

एक अंदाज के तौर पर वैज्ञानिक बनने के बाद आपको कम से कम ₹30000 से ₹100000 प्रतिमाह मिलेंगे। या आमदनी धीरे-धीरे आपके अनुभव के अनुसार बढ़ती जाएगी। 

यह भी पढ़ें

निष्कर्ष

अगर आपको Scientist Kaise Bane लेख हेल्पफुल रहा है तो फिर आप यह लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करना और इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो उसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Abhishek Maurya

मेरा नाम अभिषेक मौर्य है और मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं? आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। मेरा भी एक हिंदी ब्लॉग है जिस पर मैं रिलेशनशिप के ऊपर आर्टिकल लिखता हूं जिसका यूआरएल इस प्रकार से है। माय वेबसाइट यूआरएल - https://hindibaatchit.com/

Leave a Reply